चल गयी शिवगंगा तो मन हुआ ‘चंगा’, लौटने लगी है रेलवे स्टेशनों की ‘रौनक’

वाराणसी। यूं तो काफी दिनों से भारतीय रेलवे ने ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया था लेकिन यह हमेशा चलने वाली रेलगाड़ियों के बदले ‘श्रमिक स्पेशल’ थी। इनमें न तो कोई किसी को छोड़ने आता और रिसाव करने का काम जो प्रशासन ने खुद हाथ में रखा था। पहली जून आम नागरिकों की सुविधा के लिए 200 यात्री ट्रेनों का परिचालन शुरू हुआ लेकिन रौनक लौटी मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन से चलाई जाने वाली नई दिल्ली स्पेशल शिवगंगा एक्सप्रेस से। प्लेटफार्म संख्या 8 से अपने निर्धारित समय पर चलाई गई इस ट्रेन से कुल 867 यात्री रवाना हुए।

दो घंटे पहले पहुंच गये थे यात्री

इस ट्रेन के प्रति लोगों के रुझान को इससे समझा जा सकता है कि शाम 5:30 बजे ही मंडुवाडीह सेकेंड इंट्री के प्रवेश द्वार पर सभी यात्री पहुंच गए थे। आरपीएफ की सहायता से चार पंक्तियों में यात्रियों का उचित यात्रा टिकट देखने के बाद स्टेशन परिसर में प्रवेश दिया गया जहां पहले से तैनात मंडल चिकित्सालय की मेडिकल,वाणिज्य कर्मचारियों की टीमें एवं टिकट निरीक्षकों की टीमों ने क्रमश: मेडिकल जांच, थर्मल स्कैनिंग,टिकट जांच एवं लगेज जांच किया गया और सामाजिक दूरी का पालन कराते हुए ट्रेन में चढ़ाया गया। इसके पूर्व स्टेशन एवं प्लेटफार्म की डीप क्लीनिंग और सेनेटाइजेशन किया गया था।

श्रमजीवी समेत दूसरी ट्रेनें भी चली

लंबे समय के बाद ट्रेनों का संचालन आरम्भ होने पर प्रबंधन को चाक-चौबंद रखने के लिए डीआरएम विजय कुमार पंजियार ने स्वयं शाम 6 बजे स्टेशन का दौरा किया था। इस अवसर पर उनके साथ एडीआरएम (इंफ्रा) प्रवीण कुमार,एडीआरएम (परिचालन)एसपीएस यादव ,वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक संजीव शर्मा,वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक सामान्य एके सक्सेना, वरिष्ठ मंडल चिकित्सा अधिकारी डा. आरआर सिंह एवं अधिकारी गण उपस्थित थे। उधर कैंट रेलवे स्टेशन पर भी श्रमजीवी एक्सप्रेस समेत दूसरी ट्रेनों से यात्री रवाना हुए। पीआरओ एनईआर अशोक कुमार ने सभी यात्रियों से अपील है कि वे कोविड-19 के संबंध में जारी सभी नियमों का पालन करें। फेस मास्क पहने,सेनेटाइजर या साबुन अपने पास रखें, सामाजिक दूरी का पालन करें तथा यात्रा प्राम्भ करने वाले राज्य एवं गन्तव्य राज्य में संबंधित राज्यों की कोविड गाइड लाइन्स का पालन करें।

Related posts