वाराणसी। सिकरौरा कांड में मंगलवार को आरोपित एमएलसी बृजेश सिंह को कड़ी सुरक्षा में बीएचयू अस्पताल से लाकर अपर जिला जज (तृतीय) राजीव कमल पाण्डेय की अदालत में पेश किया गया। शिवरात्रि पर फोर्स की व्यस्तता के बावजूद पुलिस ने कोर्ट का रूख देखते हुए इसमें कोताही नहीं बरती। दूसरी तरफ ‘अस्वस्थता’ के चलते वादिनी हीरावती देवी अदालत में जिरह के लिए उपस्थित नहीं हो सकी। अदालत में वादिनी की तरफ से उपस्थित उनके चिकित्सक डॉ. सतेंद्र सिंह ने अदालत में वादिनी की तबियत खराब होने व उसे एक माह के बेड रेस्ट की सलाह संबंधित चिकित्सकीय रिपोर्ट प्रेषित किया। साथ ही इस मामले में सुनवाई के लिए अगली तिथि एक माह पश्चात देने का अनुरोध किया।

बचाव पक्ष ने कई बिन्दुओं पर जतायी आपत्ति

इस पर बचाव पक्ष की तरफ से आपत्ति करते हुए कहा गया कि इन मामले में उच्च न्यायालय इलाहाबाद ने जल्द से जल्द सुनवाई करने के आदेश दिया है। अदालत ने मामले की सुनवाई के दौरान सीएमओ चंदौली व एसपी चंदौली को निर्देशित किया कि वह वादिनी को पर्याप्त सुरक्षा में उपचार के लिए चंदौली जिला अस्पताल में भर्ती कराये और उसके उपचार संबंधित समस्त रिपोर्ट अदालत में प्रेषित करें। इससे पहले कोर्ट ने कमीशन भेज कर गवाही पूरा कराने का सुझाव दिया था जिस पर बचान पक्ष ने कड़ी आपत्ति जतायी थी। अदालत ने इस मामले में सुनवाई के लिए अगली तिथि 19 फरवरी नियत कर दी। अदालत में तारीख पड़ने के बाद पुलिस कड़ी सुरक्षा में बृजेश सिंह को लेकर वापस बीएचयू अस्पताल लौट गयी।

admin

No Comments

Leave a Comment