वाराणसी। सिकरौरा नरसंहार मामले में पिछली कई तिथियों से वादिनी हीरावती की बयान की खातिर प्रतीक्षा हो रही था। कड़ी सुरक्षा के बीच बुधवार को हीरावती कोर्ट में बयान दर्ज कराने पहुंची। हीरावती को लेकर जब तक पुलिस पहुंची थी तब तक मामले के आरोपित एमएलसी बृजेश सिंह को पेश करने के बाद शिवपुर की सेन्ट्रल जेल पहुंचाया जा चुकाथा। बहरहाल सभी को हीरावती के बयान का इंतजार था लेकिन वह नहीं हो सका। वजह, अदालत में वादिनी की तरफ से मामले की सुनवाई दूसरी अदालत में स्थानांतरित करने सम्बन्धी जिला जज दिनेश कुमार शर्मा की कोर्ट में लबित आवेदन को देखते हुए सुनवाई नही किये जाने का अनुरोध किया गया थ। इन परिस्थितियों में कोर्ट ने सुनवाई की तारीख 14 नवम्बर नियत कर दी।
एक दिन पहले जिला जज के यहां दाखिल की थी टीए
इससे पहले कोर्ट में कड़ी सुरक्षा के बीच आरोपी एमएलसी ब्रजेश को पेश किया गया। बचाव पक्ष की तरफ से कोर्ट के संज्ञान में लाया गया कि एक दिन पहले वादिनी की तरफ से जिला जज की अदालत में ट्रांसफर अप्लीकेशन दिया जा चुका है। दरअसल कोर्ट में पीठासीन अधिकारी के खिलाफ अभियोजन के प्रति उपेक्षात्मक और आरोपी प्रति नरमी का आरोप लगते पूर्व में इस कोर्ट में तैनाती के दौरान स्थानांतरण आवेदन बीते 6 दिसंबर को दिया था जो वापस ले लिया गया था। फिर से इस कोर्ट में वर्तमान में स्थानांतरण से मामले को स्थानांतरित किया जाने का अनुरोध सत्र न्यायाधीश की कोर्ट से किया गया है। जिला जज ने सुनवाई के लिए 13 नवंबर की तिथि नियत की है जिसे ध्यान में रखते हुए एडीजे ने 14 नवंबर की तिथि नियत की। कोर्ट में वादिनी की तरफ से जिला शासकीय अधिवक्ता अनिल सिंह,वादिनी के अधिवक्ता विश्राम यादव,योगेन्द्र सिंह,अश्वनी गुप्ता ने पैरवी की।
भारी सुरक्षा के बीच कोर्ट पहुंची थी हीरावती
वादिनी हिरावती की सुरक्षा के लिए एक इंस्पेक्टर, तीन एसआई, चार हेड कांस्टेबिल और महिला समेत आधा दर्जन कांस्टेविल ही नहीं लगाये गये थे बल्कि उसे बज्र वाहन से लाया गया था। चंदौली पुलिस ने इससे संबंधित कागजात भी कोर्ट में दाखिल किये। हीरावती भले कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट पहुंची लेकिन इसे लेकर वह खासी सजग दिखी। कोर्ट में तारीख पड़ जाने के बाद पत्रावली पर अपना अंगूठा लगाकर उपस्थिति दर्ज कराई।

admin

No Comments

Leave a Comment