वाराणसी। पिछले काफी समय से चर्चा में रहे तीन दशक से अधिक पुराने सिकरौरा कांड को लेकर विशेष न्यायाधीश (गैंगस्टर एक्ट) राजीव कमल पाण्डेय की कोर्ट में मंगलवार को दिन भर गहमा गहमी रही। जहां मुकदमे की अहम गवाह व वादिनी हिरावती देवी की गवाही पूरी हो गयी वहीं बचाव पक्ष की तरफ से जिरह भी आरम्भ हो गयी है। इसके साथ ही आरोपित एमएलसी बृजेश सिंह कड़ी सुरक्षा में बीएचयू ट्रामा सेंटर से एम्बुलेंस के जरिये व्हीलचेयर पर लाकर कोर्ट में पेश किा गया था। इस मामले में अदालत ने जिरह की कार्रवाई जारी रखते हुए मामले की सुनवाई के लिए अगली तिथि 13 फरवरी नियत कर दी गयी।

पुलिस ने किये थे सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

मुकदमे की अहम गवाह व वादिनी हिरावती देवी को कोर्ट के आदेश पर पुख्ता सुरक्षा घेरे में लाया जाता है। कुछ ऐसा ही प्रबंध एमएलसी बृजेश सिंह के लिए रहता है। इसके अलावा बड़ी संख्या में बृजेश के समर्थक भी कोर्ट पहुंचे थे। लंबे समय से बयान को लेकर मामला अटका था लेकिन कोर्ट के सख्त रुख अख्तियार करने पर इसका सिलसिला आरम्भ हुआ। अदालत में वादिनी का बयान दर्ज होने के बाद बचाव पक्ष की तरफ से उनका जिरह शुरू किया गया। इस मामले में अदालत ने जिरह की कार्रवाई जारी रखते हुए मामले की सुनवाई के लिए अगली तिथि 13 फरवरी नियत कर दी गयी। अदालत में तारिख पड़ने के बाद पुलिस अलग-अलग सुरक्षा घेरे में लेकर वादिनी को चंदौली व आरोपी एमएलसी बृजेश सिंह को बीएचयू ट्रामा सेंटर लेकर लौट गई।

admin

No Comments

Leave a Comment