अर्द्धविक्षिप्त महिला के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या के कुछ ही देर बाद थाना बड़ागांव पुलिस ने दबोचा

वाराणसी। दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर केन्द्र सरकार ने कानून में बदलाव किये है। अब नाबालिग के साथ बलात्कार के मामलों में सीधे मौत की सजा का प्राविधान है। बावजूद इसके घटनाओं पर लगाम नहीं लग पा रही है। दशा यह है कि मानसिक रूप से विक्षिप्तों क भी नहीं बख्शा जा रहा है। विरोध करने पर जान तक ले ली। बुधवार को बड़ागांव पुलिस को सूचना मिली कि लोकापुर निवासी राधेश्याम पाण्डेय के बगीचे में बजरंग बली मन्दिर के प्रांगढ़ में अज्ञात विच्छिप्त महिला की हत्या हो गयी है। प्रभारी इंस्पेक्टर अनिल कुमार सिंह ने विवेचना की तो चौंकाने वाली जानकारी सामने आयी। एसपीआरए अमित कुमार ने बताया कि विक्षिप्त को अपनी हवस के लिए शराबियों ने मौत के घाट उतारा था।

एक क्लू बना खुलासे का सबब

सूचना मिलने के बाद एसपीआरए ने पुलिस टीम गठित कर हत्यारों को गिरफ्तार करने के लिए आदेशित एव निर्देशित किया गया। थाना प्रभारी को मुखबिर खास की सूचना एवं वैज्ञानिक उपकरणों का प्रयोग पर पता चला कि रसूलपुर गांव का रहने वाला लक्ष्मी निवास उर्फ डब्बू मिश्रा रात्रि मे दारू पीकर मन्दिर के पास घूम रहा था। इस पर लक्ष्मी निवास उर्फ डब्बू मिश्रा की तलाश करते हुए पकड़ा गया तो पहने हुए सफेद बनियान में खून लगा हुआ था। कड़ाई से पूछताछ में उसने स्वीकार किया लोकापुर गांव के कल्लू गोड़ के साथ बजरंगबली मन्दिर के पास दारू पीकर उस महिला के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया था। विरोध करने पर पटक- पटक कर उसकी हत्या कर दिये।

Related posts