वाराणसी। रामापुरा लक्सा के पार्षद शिव सेठ की हत्या के मामले में विशेष न्यायाधीश (ईसी एक्ट) कृष्ण पाल सिंह की अदालत ने आरोपी लोहरानी गली (लक्सा) निवासी संतोष शुक्ला की जमानत याचिका सुनवाई के बाद खारिज कर दी। अदालत में अभियोजन की तरफ से जमानत याचिका का विरोध एडीजीसी आलोक चंद्र शुक्ल व वादी के अधिवक्ता आशुतोष पाण्डेय ने किया। संतोष शुक्ला के खिलाफ संगीन धाराओं के तहत पहले भी कई मामले दर्ज हैं।

रंगदारी न देने पर की थी हत्या

अभियोजन के अनुसार भेलूपुर के जेपिस नगर (ककरमत्ता) निवासी वादी मदन कुमार ने भेलूपुर थाने में तहरीर दिया था। आरोप था कि उसका पुत्र शिव सेठ जो रामापुरा लक्सा का पार्षद था। रोजाना की तरह 3 नवंबर 2015 को रात सवा 11 बजे बाबा कीनाराम व संकट मोचन मंदिर से दर्शन करके वापस लौट रहा था। वह जैसे ही तुलसीपुर सुलभ शौचालय के पास पहुंचा, तभी अज्ञात लोगों ने उसे गोली मार दी। उसे उपचार के लिए बीएचयू ट्रामा सेंटर में ले जाया गया, जहाँ चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस मामले में पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू की। विवेचना के दौरान प्रकाश में आया कि शातिर अपराधी संतोष शुक्ला व दीपक वर्मा द्वारा पार्षद से गुंडा टैक्स की मांग की जाती थी और उन्होंने ही पार्षद की हत्या की है। जिसके बाद उन्हें आरोपी बनाया गया था।

admin

No Comments

Leave a Comment