भदोही। मर्यादपट्टी स्थित एकमा भवन में वस्त्र मंत्रालय द्वारा स्थापित कालीन निर्यात संवर्धन परिषद सीईपीसी के कार्यालय में मंगलवार की सुबह उस समय अफरा-तफरी मच गयी गयी जब यहां काम करने वाले संजय श्रीवास्तव (45) ने बाथरूम में किरोसिन डाल कर आ लगा ली। सीईपीसी आॅफिस के बाथरूम में कर्मचारी के आत्महत्या की खबर मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंच गयी। सूत्रों की माने तो आत्महत्या का कारण सूदखोरों का आतंक है जिससे ग्रस्त होकर संजय ने ऐसा निर्णय लिया। फिलहाल कोई खुल कर नहीं बोल रहा है लेकिन पुलिस का कहना है कि सभी पहलुओं को जांच में शामिल किया जायेगा। मौके पर पालिकाध्यक्ष अशोक कुमार जायसवाल, ओमेंद्र प्रताप उर्फ ओम सिंह आदि ने घटना के बाबत जानकारी ली।

पूरी तरह से दिख रहे थे सामान्य

सीईपीसी में लिपिक के रूप में कार्यरत रहे संजय मूल रूप से कोतवाली क्षेत्र के हरियांव गांव के निवासी संजय श्रीवास्तव थे। वह परिवार के साथ रजपुरा के गोपाल कुंज में रहते थे। सहकर्मियों के मुताबिक वह साढ़े 9 बजे आफिस आये थे। सबके साथ बैठने के बाद वह शौचालय जाने को कह कर निकले। शौचालय से धुआ और जलने की बदबू महसूस कर दरवाजा तोड़ा गया तो अंदर संजय झुलसे पड़े थे। कोतवाल का कहना है कि मामला खुदकुशी का है। शौचालय में बोतल में केरोसिन और माचिस मिली है। शव पूरी तरह झुलसा था।

admin

No Comments

Leave a Comment