राम मंदिर को लेकर आरएसएस नेता संजय जोशी का बड़ा बयान, सुप्रीम कोर्ट जन भावनाओं को ध्यान में रखकर देगी फैसला

गाजीपुर। सर्वोच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश समेत पांच न्याय मूर्ति की खंडपीठ के समक्ष अयोध्या में राम जन्मभूमि को लेकर विवाद की सुनवाई बुधवार को पूरी हो चुकी है। कोर्ट ने आदेश सुरक्षित कर लिया हैै और अगले माह के पहले पखवारे में इसकी घोषणा के आसार हैं। एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने गाजीपुर पहुचे आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक और भाजपा के पूर्व महा सचिव रहे संजय भैया जोशी का राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि सुप्रीम कोर्ट जन भावनाओं को ध्यान में रख कर फैसला देगा। वहीं इस मामले का बाहर हल नहीं होने का ठीकरा उन्होंने बाबरी एक्शन कमेटी पर फोड़ते हुए कहा कि इसका ध्यान उनको रखना चाहिए था। बाबरी मस्जिद के वकील और कर्ता धर्ता को सोचना चाहिए कि कोर्ट से बाहर यह मामला क्यों नहीं सुलझ पाया।

सिंधु का अधिकांश पानी जा रहा पाकिस्तान

लंबे समय तक भाजपा की राजनीति के केन्द्र रहे संजय जोशी अब आरएसएस के साथ संगठन को मजबूत कर रहे हैं। एक प्रश्न के उत्तर में उनका कहना था कि स्वतंत्रता के बाद सिंधु नदी संधि से कारण ज्यादा पानी पाकिस्तान को जाता रहा है जो की भारत के हक का पानी है। सरकार काफी समय से इस पर काम कर रही हैं, डैम बना कर पानी को भारत के हिस्से में लाया जाना है। पीलीभीत में एक शिक्षक ने को लबपे आती है दुआ अलामा इकबाल के गीत गवाने के लिए ससपेंड कर दिया पर वह बोले कि अगर यह गीत के आधार पर करवाई हुए हैतो असमर्थनीय है। देश के भगवान की स्तुति है किसी धर्म या मजहब से संबंधित विषय नहीं है।

Related posts