वाराणसी। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की चीफ प्रॉक्टर रोयना सिंह नई मुश्किल में आ गई हैं। मारपीट के एक मामले में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जनार्दन प्रसाद यादव की अदालत ने रोयना सिंह, मुख्य आरक्षाधिकारी संसार सिंह, सुरक्षाकर्मी लाल बाबू पटेल समेत 24 अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया है। अदालत ने यह आदेश नरिया निवासी आशीष कुमार सिंह की तरफ दाखिल याचिका पर सुनवाई के बाद दिया।

क्या है चीफ प्रॉक्टर पर आरोप ?

आवेदनकर्ता आशीष कुमार सिंह का परिवार लकड़ी का कारोबार करता है। आरोप है कि बीते 7 मार्च को चीफ प्रॉक्टर रोयना सिंह 25 सुरक्षाकर्मियों के साथ उनके घर में घुस आई और उसके साथ मारपीट करने लगी। इस दौरान घर में लूटपाट के साथ ही लकड़ी के ढ़ेर को भी आग लगाने की कोशिश की गई। यही नहीं सुरक्षाकर्मियों ने परिवार की महिलाओं के साथ भी बदसलूकी की। इस मामले को कोर्ट ने गंभीरता से लिया और आरोपियों के खिलाफ लंका थाने में मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया।

ये है रोयना सिंह की सफाई

वहीं रोयना सिंह ने इस घटना से पूरी तरफ इंकार किया। उनके मुताबिक आशीष कुमार विश्वविद्यालय में अवैध रुप से रह रहे हैं। उन्होंने विश्वविद्यालय की दो एकड़ भूमि पर अवैध तरीके से कब्जा कर रखा है। बीएचयू प्रशासन जब भी इस जमीन को खाली कराने की कोशिश करता है तो आशीष कुमार मनगढ़ंत आरोप लगाने शुरु कर देते हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment