वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुकाबले देश में तैयार हो रहे महागठबंधन को लेकर राजनीति तेज हो गई है। जहां विपक्षी दल महागठबंधन की रुपरेखा खिंचने में लगे हुए हैं तो वहीं दूसरी ओर बीजेपी नेताओं ने अभी से गठबंधन पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। वाराणसी पहुंचीं पर्यटन से जुड़ी योजनाओं की समीक्षा बैठक के बाद कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा मीडिया से मुखातिब हुईं। इस दौरान उन्होंने विपक्ष के महागठबंधन को अवसरवादिता का सबसे बड़ा प्रतीक बताया। उन्होंने कहा कि गठबंधन की ओर से पीएम पद का चेहरा कौन होगा, देश ये जानना चाहता है। गठबंधन के नेता नाम घोषित करें वर्ना हम एकतरफा चुनाव जीतेंगे।

किसानों को बनाया जा रहा है मोहरा

देशभर में किसानों के आंदोलन के मुद्दे पर रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि देश में चुनाव आते ही किसानों को भड़काने का काम किया जाता है। किसानों की जो समस्याएं हैं, वो हमारे सरकार के वक्त की नहीं है। ये समस्याएं पहले से जारी है। सरकार की कोशिश है कि किसानों की समस्याओं का जल्द से जल्द हल निकाला जाए। रीता बहुगुणा जोशी ने जौनपुर में दलित महिला के साथ हुई घटना पर बोलते हुए कहा कि वो दलित नहीं एक महिला थी और यह हमारे लिए महत्वपूर्ण है। किसी भी हाल में दोषियों को नहीं बख्शेंगे। बर्बरता और जाहिलियत को समाप्त होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोई भी कानून किसी भी महिला के साथ ऐसे कृत्य या किसी के साथ यह कार्य करने की किसी पंचायत या ग्राम सभा को इजाज़त नहीं देता

ममता पर साधा निशाना

रीता बहुगुणा जोशी ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी के दो निर्दोष कार्यकर्ताओं को सूली पर लटका दिया गया। आखिर कहां है कानून व्यवस्था। ममता दूसरों को आईना तो दिखाती हैं लेकिन जब अपने प्रदेश की बारी आती है तो चुप्पी साध लेती है।

admin

No Comments

Leave a Comment