वाराणसी। कचहरी परिसर में एक मुस्लिम अधिवक्ता के चैम्बर में हिन्दू युवती का धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम युवक से मौलवी के जरिये निकाह कराने के प्रयास के मामले में शनिवार को सेंट्रल बार सभागार में बनारस और सेंट्रल बार के साधारण सभा की हंगामेदार बैठक में कड़े शब्दों में एक स्वर में निंदा की गई। निकाह के प्रयास में शामिल अधिवक्ता शाहनवाज खान समेत अन्य को नोटिस जारी कर 3 दिन में स्पष्टीकरण देने को कहा गया है। साथ ही प्रकरण की जाँच के लिए एक कमेटी गठित की गई है जिसमे रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी। बैठक की अध्यक्षता बनारस बार के अध्यक्ष नरेंद्र कुमार श्रीवास्तव ने किया जबकि संचालन महामन्त्री संजय सिंह दाढ़ी ने किया।

पेशे की गरिमा के खिलाफ कृत्य माना

संयुक्त बैठक में सभी ने एक मत से अधिवक्ता के कृत्य को अतिनिन्दनीय और वकालत पेशे की गरिमा के खिलाफ बताया। साथ ही अधिवक्ता के चैंबर आवंटन को रद्द करने,दोनों बार से सदस्यता समाप्त करने,प्रकरण में बार की तरफ से हिन्दू धर्मावलम्बियों को उकसाने समेत अन्य धाराओ में प्राथमिकी दर्ज कराने के साथ बार कौंसिल से अधिवक्ता की मान्यता समाप्त करने के लिए बार से संस्तुति करने की मांग प्रमुखता से रखी गया। इस मुद्दे पर चर्चा के दौरान बार भवन की सुरक्षा और ऐसी गतिविधियों पर नजर रखने की प्रमुखता से मांग उठी। बैठक में विचार व्यक्त करने वालो में अशोक सिंह प्रिन्स,नूर फातिमा,जेपी सिंह,ओम शंकर श्रीवास्तव, घनश्याम सिंह,प्रस्तावकद्वय उपेन्द नारायन सिंह व अनुराग पाण्डेय,बृजेश मिश्र,रुद्रकुमार पाठक ,धनंजय शर्मा,अमित तिवारी आदि प्रमुख रहे। बनारस बार के महामन्त्री रजनीश मिश्र भी बैठक में शामिल रहे।

admin

No Comments

Leave a Comment