रामजानकी मंदिर में अराजक तत्वों ने तोड़ी भगवान श्रीराम की मूर्ति,लोगो मे आक्रोश भांपकर पुलिस ने कइयों को उठाया

वाराणसी। सिर्फ नाम ही नहीं बल्कि रामनगर में होने वाली रामलीला विश्वविख्यात हो चुकी है। बावजूद इसके सहित्यनाका क्षेत्र स्थित गंगा किनारे उड़िया घाट पर स्थित रामजानकी मंदिर में अराजक तत्वों ने वर्षो पूर्व स्थापित भगवान श्रीराम की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया। घटना की जानकारी के बाद स्थानीय लोगो की भारी भीड़ के साथ पुलिस भी मौके पर पहुंच गयी। क्षेत्रीय विधायक सौरभ श्रीवास्तव भी सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे। विधायक ने उन्होंने मंदिर के महंत बाबा भीम दास जी महाराज से घटना के बाबत जानकारी लेने के तत्काल बाद मूर्ति बनाने वाले को उसी तरह की मूर्ति बनाने का आर्डर दिया।

जुटते हैं नशेडी, देते हैं धमकियां

रोजाना की तरह गुरुवार की रात मन्दिर के महंत समीप स्थित अपने आवास में सोने चले गए थे। शुक्रवार की सुबह उठकर देखा तो मंदिर के गर्भगृह के ताला टूटा था। अंदर जाकर देखा तो भगवान श्री राम की मूर्ति टूटी पड़ी थी जबकि दोनो किनारों पर स्थित लक्ष्मण व सीता जी की मूर्ति जस की तस थी। स्थानीय लोगों की मांग पर श्री श्री बाबा मोहनदास रामजानकी ट्रस्ट के नाम से संचालित इस मंदिर के चारो ओर बाउंड्री वाल कराने की बात भी कैंटूमेंट के विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने कही। आरम्भि जांच के बाद पुलिस को पता चला कि प्रतिदिन एक दर्जन से अधिक युवक जुआ व नशा करने हेतु मंदिर पर आते थे। मना करने पर पुजारी लोगो को मारने पीटने की धमकी भी देते थे। पुलिस शक के आधार पर आधा दर्जन युवको से पूछताछ कर रही है।

Related posts