वाराणसी। विधानसभा चुनाव का रण जीतने के लिए बीजेपी और उसकी सहयोगी पार्टियां हर दांव पेंच आजमा रही है। ये पार्टियां भ्रष्टाचारियों को भी गले लगाने से परहेज नहीं कर रही हैं। कम से कम अपना दल (अनुप्रिया गुट) की लिस्ट देखकर तो यही लगता है। पार्टी ने बुधवार को अपनी दूसरी सूची जारी कर दी। इस सूची में दो नामों का ऐलान किया गया है। इलाहाबाद की हंडिया सीट से पार्टी ने पूर्व बीएसपी विधायक और आय से अधिक संपत्ति के मामले में आरोपी राकेश धर त्रिपाठी की पत्नी प्रमिला त्रिपाठी को टिकट दिया है। वहीं फैजाबाद के गोसाईगंज से खब्बू तिवारी को उम्मीदवार बनाया है।

दाग से बचने के लिए नया पैंतरा

माना जा रहा था कि अनुप्रिया पटेल पूर्व मंत्री राकेश धर त्रिपाठी को टिकट दे सकती है। राकेशधर पिछले कई महीनों से अनुप्रिया पटेल के संपर्क में थे। दोनों के बीच डील पक्की हो गई थी। लेकिन असल पेंच फंसा था राकेशधर की दावेदारी को लेकर। बीजेपी नहीं चाहती थी कि राकेशधर गठबंधन का हिस्सा बनें। लिहाजा अनुप्रिया पटेल ने बीच का रास्ता अख्तियार करते हुए उनकी पत्नी प्रमिला त्रिपाठी को टिकट थमा दिया।

जेल में बंद हैं राकेशधर त्रिपाठी

पूर्व मंत्री राकेशधर त्रिपाठी आय से अधिक संपत्ति के मामले में जेल की हवा खा चुके हैं । जमानत याचिका खारिज होने के बाद राकेशधर वाराणसी की जिला जेल में बंद थे लेकिन बीमारी का बहाना बनाकर वो बीएचयू के स्पेशल वॉर्ड पहुंच गए। केंद्र में बीजेपी की सरकार होने का फायदा पूर्व मंत्री ने जमकर उठाया था। बीएचयू अस्पताल प्रशासन की पूर्व मंत्री राकेशधर त्रिपाठी पर मेहरबान बनी रही। अस्पताल में उन्हें हर मुमकिन सुविधाएं दी जा रही थी।

admin

No Comments

Leave a Comment