गाजीपुर। आरएसएस कार्यकर्ता और पत्रकार राजेश मिश्रा हत्याकांड में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने इस मामले में गोवर्धन यादव नाम के एक कुख्यात को गिरफ्तार किया है। उसके ऊपर 25 हजार रुपए का ईनाम भी थी। तलाशी के दौरान पुलिस ने गोवर्धन के पास से एक पिस्टल और दो कारतूस बरामद किया है। हालांकि हत्याकांड का मुख्य आरोपी राजू यादव अभी भी फरार चल रहा है।

 

पट्टीदारों के कहने पर हुई थी हत्या

प्रेस वार्ता के दौरान पुलिस अधीक्षक यशवीर सिंह ने बताया कि रविवार को क्राइम ब्रांच और करंडा थाना पुलिस ने चेकिंग अभियान के दौरान संदिग्ध मोटरसाइकिल सवार लोगों को रुकने का इशारा किया, जिस पर बाइक सवार बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायर झोंक दिया। साहस का परिचय देते हुए पुलिस टीम ने कड़ी घेराबंदी कर बाइक सवार गोवर्धन यादव उर्फ मंटू को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार अभियुक्त गोवर्धन यादव उर्फ मंटू ने बताया कि राजू यादव मेरे बचपन का साथी है और उसी के कहने पर पत्रकार राजेश मिश्रा की हत्या की थी। पैसों का सारा मैनेजमेंट मृतक के पट्टीदारों प्रदीप मिश्रा ने किया था।

कई संगीन मुकदमों में वांछित था गोवर्धन

पूछताछ के दौरान उसने बताया कि राजू यादव के साथ मिलकर वह बिहार में शराब की अवैध तस्करी का काम करता था। इसके अलावा दोनों ने मिलकर छिनैती, लूट, अपहरण और हत्या जैसी तमाम वारदातों को अंजाम दिया। पुलिस के मुताबिक गोवर्धन यादव के ऊपर चंदौली, गाजीपुर और बिहार के विभिन्न थानों में लगभग 13 संगीन मुकदमे दर्ज हैं। गिरफ्तार गोवर्धन यादव के ऊपर गैंगस्टर एक्ट के तहत भी कार्रवाई की जा चुकी है। गौरतलब हो कि RSS कार्यकर्ता और पत्रकार राजेश मिश्रा की दिनदहाड़े बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड में राजू यादव का नाम सबसे ऊपर सामने आया था। राजू यादव के ऊपर पुलिस ने 50 हजार का इनाम भी घोषित किया हुआ है।

admin

No Comments

Leave a Comment