लखनऊ। पूर्वांचल के अपराध जगत में पिछले काफी दिनों से नये समीकरण बन रहे हैं। कभी एक-दूसरे के कट्टर विरोधी रहे अब गबहियां डाले दिख रहे हैं। इसकी बानगी बुधवार को पीजीआई पर उस समय देखने को मिली जब पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया लाव लश्कर के साथ मऊ सदर के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी से मिलने की खातिर पहुंचे। राजा भैया के साथ बाहुबली पूर्व सांसद अक्षय प्रताप सिंह, पूर्व विधायक गोसाईंगंज फैजाबाद अभय सिंह, सपा विधायक जंगीपुर वीरेंद्र यादव, नेता फरीद महमूद किदवई समेत बड़ी संख्या में दूसरे असलहाधारी भी थे। हालांकि पुलिस प्रशासन ने उन्हें रोकने की कोशिश की लेकिन वो सब अंदर घुसते चले गए। बाद में सख्ती दिखाते हुए पुलिस ने मुख्तार से मिलने से रोक दिया जिसके बाद नोंक-झोक भी हुई। पुलिस का कहना था कि इतने लोगों को मिलने की इजाजत नहीं है। इंंस्पेक्टर पीजीआई ने स्वीकार कि राजा भैया की मुख्तार के परिजनों से मुलाकात करायी गयी। बड़ी संख्या में लोगों का जमावड़ा देखते हुए वहां पीएसी लगायी गयी है।

906

परिजनों के साथ दुर्व्यवहार का आरोप

मुख्तार के बड़े भाई व मोहम्मदाबाद के पूर्व विधायक शिबगतुल्ला अंसारी का आरोप है कि परिजनों के साथ गलत व्यवहार किया जा रहा है। मंगलवार की रात में मुख्तार के भाई पूर्व सांसद अफजाल अंसारी आये थे तो उन्हें भी मिलने नही दिया गया। इसके बाद काफी हंगामा हुआ था जिसके बाद एसएसपी मौके पर आए थे। देर रात पुलिस ने वहां से दो दर्जन लोगों के साथ कई वाहनों को उठाया था।

सीएमएस अमित अग्रवाल ने माना ब्लॉकेज नहीं

पीजीआई के सीएमएस अति अग्रवाल का कहना है कि मुख्तार अंसारी की एंजियोग्राफी हुई थी। रिपोर्ट से स्पष्ट हुआ है कि कोई बड़ी ब्लॉकेज नहीं है। उनकी पत्नी आफ्शां अंसारी को कोई समस्या नहीं थी जिससे उनको मंगलवार की शाम को ही डिस्चार्ज कर दिया गया था। मुख्तार को कल तक रखा जाएगा और मेडिकल रिपोर्ट में सब कुछ सामान्य रहा तो आगे का निर्णय लिया जायेगा।

राजा भैया को लेकर दाखिल है कोर्ट में प्रार्थनापत्र

गौरतलब है कि पिछले दिनों राजा भैया की मध्यस्थता के चलते मुख्तार और बृजेश में ‘दोस्ती’ का आरोप लगाते हुए शिवपुर निवासी राकेश न्यायिक ने कोर्ट में सीआरपीसी की धारा 156 (3) के तहत प्रार्थनापत्र दिया था। कोर्ट ने इस पर मंगलवार को शिवपुर पुलिस से आख्या मांगी थी। आख्या मिलने पर सुनवाई के लिए 20 जनवरी की तिथि नियत की गयी थी।

admin

No Comments

Leave a Comment