सपा के पूर्व सांसद जवाहरलाल जायसवाल के ठिकानों पर दूसरे दिन भी छापेमारी, पुराने मामलों में हो रही तलाश

वाराणसी। सूबे में सत्ता परिवर्तन के बाद जिस सपा को सर्वाधिक दुश्वारियों का सामना कर पड़ रहा है वह चंदौली के पूर्व सांसद और होटल व शराब कारोबारी जवाहर लाल जायसवाल हैं। पिछले 24 घंटों में उनकी तलाश में दूसरी बार छापेमारी की गयी। कैंटूंमेट से लेकर लालपुर स्थित आवास पर भारी संख्या में फोर्स की दबिश पड़ी। पुलिस सूत्रों का कहना है कि पहले महराजगंज की फोर्स गन्ना किसानों के करोड़ो रूपये बकाये के मामले में जारी वसूली वारंट के साथ आयी थी और यह दबिश बैंककर्मी महेश जायसवाल की हत्या के मामले में कोर्ट से जारी एनबीडब्ल्यू को लेकर है। इस मामले में पूर्व सांसद के संग उनके पुत्र गौरव को भी फरार घोषित किया गया है।

किसानों के मामले में कोई नहीं दे रहा साथ

पूर्व सांसद के करीबी रिश्ते सपा सुप्रीमों मुलायम सिंह व उनके भाई शिवपाल यादव से रहे हैं लेकिन किसानों का मामला आने के बाद कोई मदद के लिए सामने नहीं आ रहा है। महराजगंज और देवरिया में बसपा शासनकाल के दौरान खरीदी गयी गन्ना मिलों का इतना बकाया हो चुका है कि कई बार इसे लेकर वसूली वारंट जारी हो चुका है। वैसे भी देश में इन दिनों किसान राजनीति चरम पर है लिहाजा राजनैतिक कारणों को ध्यान में रखते हुए कोई मदद नहीं मिल रही है। एक जमाना था कि जवाहरलाल को खासा धनाढ्य माना जाता था। अब दशा यह हो चुकी है कि बैंकों से लेकर तहसील तक से बकाये की वसूली नोटिसें आ रही हैं।

Related posts