जौनपुर। खुटहन ब्लाक प्रमुख सरजूदेयी के खिलाफ 6 नवम्बर को लाये गये अविश्वास प्रस्ताव में मतदान के दौरान हुए बवाल के मामले में पुलिस ने पूर्व सांसद धनंजय सिंह, पूर्व मंत्री व विधायक शैलेंद्र यादव ललई और एमएलसी बृजेश प्रिंसू के खिलाफ दबाव बढ़ाना शुरू कर दिया है। विवेचक के प्रार्थना पत्र पर एसीजेएम चतुर्थ ने मंगलवार को आरोपितों के खिलाफ सीआरपीसी की धारा 82 के तहत फरार घोषित कर दिया है। पुलिस का कहना है कि इनकी गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश लेकिन सभी फरार चल रहे हैं। इस पर विवेचक ने कुर्की के लिए कोर्ट में याचना की है। माना जा रहा है कि पुलिस सीआरपीसी की धारा 83 के तहत कुर्की के लिए प्रयास कर रही है और फरारी की मुनादी कराने के लिए इसके लिए नये सिरे से जोर लगायेगी।

हत्या प्रयास सरीखी धाराओं में सांसद की तलाश नहीं
एक तरफ तो पुलिस ने धनंजय समेत एक पक्ष के लोगों की गिरफ्तारी के लिए पूरा जोर लगा रखा है तो दूसरी तरफ इसी मामले में प्रतापगढ़ का सांसद हरबंश सिंह, उनके पुत्र और भतीजों समेत दूसरे आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास नहीं किये। कोरम के तौर पर भी दबिश नहीं दी जबकि दूसरे पक्ष के घर से लेकर रिश्तेदारों तक के घर छापेमारी चल रही है। बहरहाल जाति विशेष को निशाना बना कर की जा रही कार्रवाई और छापेमारी से आक्रोश बढ़ता जा रहा है और निकाय चुनाव में इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ सकता है।

admin

No Comments

Leave a Comment