वाराणसी। अमूमन राजनेता और सामाजिक कार्यक्रम अपनी मांग को लेकर अनशन करते हैं लेकिन ग्रेजुएशन कर रही युुवती का भोजन छोड़ना पुलिस के लिए सिरदर्द बन गया। स्नातक तृतीय वर्ष का छात्रा पिता का घर छोड़कर प्रेमी के यहां पहुंच गयी। वहां अंतरजातीय विवाह की बात सुनकर परिजन भड़क गये। युवती वहां से भगायी गयी तो पिता के घर लौटी लेकिन अन्न व पानी छोड दिया। सूचना मिलने पर मौके पर पहुची पुलिस ने युवती को थाने लाकर 20 दिन में शादी कराने का आश्वासन देकर छात्रा को पिता के सुपुर्त कर दिया। खास यह कि प्रकरण पुलिस के संज्ञान आने की भनक मिलने के बाद प्रेमी के साथ घरवाले ताला लगा कर फरार हो गये हैं।

तीन साल से चल रहा ता प्रेम-प्रसंग

कपसेठी के एक गांव निवासिनी युवती भिषमपुर स्थित एक महिला महाविद्यालय की छात्रा है। उसके कालेज आते-जाते समय रामपुर गांव निवासी एक बीए के छात्र से प्रेम हो गया। पिछले तीन सालों से ऐसा चलता रहा। इस बीच दोनों ने भगवान को साक्षी मानकर शादी भी कर लिया। अचानक सोमवार को युवती अपनी भाभी की साडी पहन कर प्रेमी के गांव पहुंच गयी जहां प्रेमी के घरवाले अंतरजातीय विवाह का विरोध करते हुए घर से निकाल दिये। इस बीच परिवार के लोग भी युवती की खोज करते रामपुर पटेल बस्ती पहुच गये और घर से आये। पिता के घर आकर छात्रा ने प्रेमी के घर पहुंचाने की जिद पर अड गयी। उसने अन्न-जल छोड दिया। युवती के जिद के चलते पिता ने जानकारी पुलिस को दी। पुलिस युवती को लेकर थाने आयी जहां खाना खिलाया और युवक के घर पर दविश दी लेकिन परिवार के लोग नहीं मिले। आखिर पुलिस ने छात्रा को 20 दिन का समय देने पर राजी कर लिया और युवती को पिता के घर भेज दिया।

admin

No Comments

Leave a Comment