बृजेश हत्याकांड में पुलिस ने किया बड़ा खुलासा, हत्या के पीछे राजाबाबू गैंग का हाथ

कानपुर। चकेरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत दिनदहाड़े मंगलवार को लालबंगले मार्केट में लोगों के बीच दहशत पैदा करने और क्षेत्र में वर्चस्व कायम रखने के मकसद से रामादेवी निवासी ब्रजेश पाल को बीच बाज़ार गोलियों से छलनी करने वाला और कोई नहीं बल्कि हिस्ट्रीशीटर राजा बाबू सोनकर की ही गैंग था। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार चल रहे थे। इस मामले में पुलिस ने नामजद आरोपी विशाल, शिवम और ऋषभ को 15 सितंबर को रायबरेली से गिरफ्तार कर लिया और मुखबिर की सटीक सूचना पर 16 सितंबर को घटना में शामिल 5 और अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने इनके पास से हत्या में प्रयोग किया हुआ तमंचा भी बरामद कर लिया है।

जेल में बंद है हिस्ट्रीशीटर राजाबाबू

इस गिरोह का सरगना और हिस्ट्रीशीटर राजाबाबू जेल में है। उसी ने साजिश के तहत ब्रजेश पाल की हत्या करवाई। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि राजा बाबू सोनकर और हम सभी लोगों ने कुछ दिन पहले विमानपुरी में मनजीत छावड़ा के साथ एक घटना की थी। जिसके बाद पुलिस बराबर दबिश देने में लगी हुई थी। वहीं करीब 20 दिन पहले राजा बाबू के बहनोई व अन्य रिश्तेदारों को पुलिस काफी समय से परेशान कर रही थी, जिसके बाद प्लानिंग करते हुए राजा बाबू कोर्ट में पेश होते हुए जेल चला गया । राजा बाबू को शक था कि बहनोई और रिश्तेदारों के यहाँ दबिश डलवाने में बृजेश पाल का हाथ है। आरोपियों ने बताया कि आये दिन हमारे कई मामलों में ब्रजेश हस्तक्षेप भी करने लगा था और जनता को हमारे खिलाफ उकसाने लगा जिसके बाद हम सभी ने इसको रास्ते से हटाने का फैसला किया।

Related posts