भदोही। पंजाब के पिछले विधानसभा चुनाव में मादक पदार्थ की तस्करी का मुद्दा जोर-शोर से उठा था। उन्हीं दिनों प्रदर्शित हुई फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ को लेकर खासा विवाद भी हुआ था। दरअसल पंजाब में अफीम का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर होता है। इसे मंगाने की खातिर तस्करों ने ट्रकों का बेड़ा खडाÞ कर रखा है। पिछले साल पुलिस ने 1.40 करोड़ की अफीम बरामद की थी लेकिन गिरोह का सदस्य मौके से फरार होने में सफल रहा था। क्राइम ब्रांच प्रभारी अजय सिंह ने शुक्रवार की देर शाम इस मामले में वांछित चल रहे करनैल सिंह निवासी होशियारपुर(पंजाब) को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी में इंस्पेक्टर गोपीगंज सुनील कुमार वर्मा और इंस्पेक्टर कोइरौना सारनाथ सिंह की टीम भी शामिल थी।

केसर प्लांट का भी मालिक है गिरफ्तार आरोपित

होशियार सिंह ने मादक पदार्थ की तस्करी को छिपाने के लिए दिखावे की खातिर दूसरे धंधे भी खोल रखे हैं। इसमें यह केसर प्लांट और कई दस चक्का गाड़ियों का बेड़ा शामिल है। पूछताछ में उसने कबूल किया कि अपनी ट्रकों के जरिये वह अफीम मंगाता है। पहले पूर्वांचल के एक बड़े अफीम तस्कर से उसके संबंध थे लेकिन उसकी हत्या के बाद अब दूसरों से माल खरीदना होता है। पंजाब पुलिस को भी इसकी तलाश थी लेकिन वह हत्थे नहीं चढ़ रहा था। इससे पहले भी भदोही से टीम पंजाब गयी थी लेकिन सफलता नहीं मिला। एसपी सचिन्द्र पटेल ने गिरफ्तारी का टास्क क्राइम ब्रांच को सौंपा था। स्वाट टीम में कांस्टेबिल सचिन झा,इंदु प्रकाश गौतम,अजय यादव,मेराज,सर्वेश राय, अनिरुद्ध वैश्वार आदि शामिल थे।

admin

No Comments

Leave a Comment