ग्रामीणों को बताने के लिए पीएम की सोच आला अफसरों ने लगाया जोर, पौधरोपण व वर्षा जल संचयन का निरीक्षण

वाराणसी। पीएम मोदी जल संचयन और पौधरोपण पर विशेष जोर रहे हैं। अपने संसदीय क्षेत्र काशी आकर उन्होंने इस अभियान की शुरुआत भी की। उनकी सोच को ग्रामीणों को बताने के लिए मंगलवार को संयुक्त सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार सुनील शर्मा व डीएम सुरेंद्र सिंह प्रशासनिक अमले के साथ पहुंचे। संयुक्त सचिव व डीएम ने पौधरोपण व वर्षा जल संचयन का निरीक्षण के साथ अपने विचार रखे। आला अफसरों ने उपस्थित ग्रामीणों के बीच ग्रामीणों को जल संचयन के लिए वह वृक्षारोपण के लिए लोगों को आगाह किया और कहा कि जल ही जीवन है बिना जल व और वृक्ष मानव जीवन बेकार साबित हो रहा है।

बंजर भूमि में खुदेगा तालाब

डीएम का कहना था कि यही कारण है कि हमारे पीएम की सोच है कि गांव का पानी गांव में रहे। आइए हम सब मिलकर के इस समस्या के लिए सकारात्मक पहल करें। इस मौके पर ग्राम पंचायत द्वारा बनाए गए तालाब का निरीक्षण कर मत्स्य पालन के लिए प्रेरित किया। वही ग्रामीणों के बीच गांव में गंदगी करने वाले वह प्लास्टिक का उपयोग करने वालों के खिलाफ जुमार्ना लगाने के लिए भी ग्राम सभा से कहा। इस दौरान गांव के बंजर जमीन पर तालाब खुदवाने का भी निर्देश दिया। शासन द्वारा इस गांव के लिए 1650 वृक्ष लगाने का लक्ष्य रखा गया है जिसका शुभारंभ अधिकारी द्वय ने तालाब परिसर में पौधारोपण करके किया।

इनकी रही मौजूदगी

इस मौके पर एमएस हर्षिता डिप्टी डायरेक्टर केंद्रीय जल आयोग, सीडीओ गौरांग राठी, बीडीओ आराजी लाइन दिवाकर सिंह, श्रम आयुक्त करुणाकर आदिब, एडीपीआरओ राकेश कुमार यादव, एडीओ समाज कल्याण प्रमोद कुमार, लेखाकार मगनरेगा अवधेश कुमार, एडीओ पंचायत वीरेंद्र कुमार सिंह, जिला उद्यान अधिकारी संदीप कुमार गुप्ता, एसडीओ बन विभाग सीपी सिंह, स्वास्थ्य विभाग अधिकारी एके सिंह आदि लोग मौजूद रहे।

Related posts