वाराणसी। बीएचयू में पूर्व कुलपति प्रो. जीसी त्रिपाठी ने अपने विदाई समारोह में जो ‘कबूलनामा’ किया था वह तूल पकड़ता जा रहा है। प्रो. त्रिपाठी ने मजबूरी में अयोग्य लोगों की नियुक्तियां करना स्वीकार किया था जो पीएमओ तक पहुंच चुका है। सूत्रों की मानें तो पीएम के संसदीय क्षेत्र में इस तरह की शिकायत को गंभीरता से लिया गया है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने आॅनलाइन शिकायतों में उठाई गई आपत्तियों पर विश्वविद्यालय प्रशासन से जवाब मांगा है। यही नहीं सूत्रों की मानें तो पिछले दिनों भू भौतिकी समेत कई विभागों में नियुक्तियों को लेकर हुई आॅनलाइन शिकायतों का संज्ञान लेते हुए ही पीएमओ ने यह कार्रवाई की है।

लंबे समय से उठती रही थी आवाज

गौरतलब है कि विश्वविद्यालय में शिक्षकों से लेकर कर्मचारियों तक की नियुक्तियों को लेकर लगातार शिकायतें होती रही थी। प्रो. त्रिपाठी के कार्यकाल में हुई नियुक्तियों को लेकर राजनीतिक, छात्र संगठनों की ओर से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मानव संसाधन मंत्रालय में शिकायत कर जांच की मांग की गई थी। बहरहाल उनके कार्यकाल में हुई नियुक्तियों की प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देश पर जांच शुरू कर दी है।

admin

No Comments

Leave a Comment