जौनपुर। लाइन बाजार थाना क्षेत्र के दीवानी न्यायालय के गैंगस्टर कोर्ट में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी के साथी गैंगस्टर के एक बड़े अपराधी तीहरे हत्याकांड के आरोपित आलम सिंह की पेशी थी। कड़ी सुरक्षा के बीच आलम आया था। गैंगस्टर और ईसी एक्ट कोर्ट के बीच में शुक्रवार को दोपहर बाद अचानक गोली चलने से हड़कम्प मच गयी। गोली कोर्ट के बाहर एक दीवार में लगी जिससे वहां सुराख हो गया। गोली की आवाज सुनते ही अफरा-तफरी का माहौल व्याप्त हो गया। लोग किसी अनहोनी आशंका से भयभीत हो गये। इस बीच जिसकी पिस्टल थी वह व्यक्ति पिस्टल छोड़कर फरार हो गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पिस्टल को कब्जे में ले लिया है।

आलम के पिता थे बजरंगी के गॉड फादर

गौरतलब है कि आलम के पिता स्वर्गीय गजराज सिंह को मुन्ना बजरंगी का गॉड फादर कहा जाता है। पूर्वांचल में पहली बार एके 47 का इस्तेमाल भी उनके इशारे पर तिहरा हत्याकांड में किया गया था जिसमें ब्लाक प्रमुख कैलाश दूबे और राजकुमार सिंह के संग एक छोटी बच्ची मारी गयी थी। इसी मामले में आलम को सजा हो चुकी है और उसे फतेहगढ़ जेल में रखा गया है। शुक्रवार को स्पेशल कोर्ट में पेशी के लिए आलम को जिला जेल से लाया गया था। फायरिंग के बाद पुलिसकर्मी आलम को सुरक्षित कोर्ट में लेते गये। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पिस्टल को कब्जे में ले लिया है। यह पिस्टल किसकी थी इसका कुछ पता नहीं चला। इधर घटना की सूचना मिलते ही सीजेएम अभिनव मिश्रा, एडीजे बलराज सिंह, एडीजे एनपी सिंह सहित अधिकारियों ने मौके का निरीक्षण किया।

admin

No Comments

Leave a Comment