फिजिक्स का पेपर आउट होने से मची हडकंंप, दो शिक्षकों की गिरफ्तारी के साथ 69 केन्द्रों की परीक्षा रद्

मऊ। यूपी बोर्ड परीक्षा की परीक्षाओं को नकल विहीन कराने के लिए शासन सीसी कैमरों से निगरानी करा रहा है। बावजूद इसके गुरुवार को दूसरी पाली के इंटरमीडिएट भौतिक विज्ञान की परीक्षा से घंटो पहले इसका प्रश्नपत्र आउट होने के बाद हड़कंप मच गया। सुबह से ही पेपर का साल्व वाट्सएप ग्रुपों में वायरल होते ही पूरा प्रशासन सक्रिय हो गया। सक्रियता से जांच में पता चला कि बड़रांव ब्लाक के एक प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक ने पेपर का साल्व वायरल किया। सूचना मिलते ही डीएम ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी ने एफआईआर दर्ज कर साल्व को वायरल करने वालों को गिरफ्तार करने का आदेश दिया। जिसके बाद तत्काल ही दो शिक्षक पुलिस हिरासत में लिए गये। साथ ही एक की तलाश में पुलिस टीम लगी हुई है। इतना ही नहीं बल्कि डीएम ने 69 वित्त विहीन विद्यालयों की परीक्षा रद कर दी।

एक्स-वाई सिरीज के पेपर हुए आउट

डीएम ने स्वीकार किया कि प्रिन्स बैसवाङा प्राथमिक स्कूल के एक शिक्षक है जिनके द्वारा वाट्सएप बीआरसी ग्रुप में भौतिक विज्ञान का साल्व पेपर वायरल किया गया। इन्टर परीक्षा के दूसरी पाली वाले फिजिक्स एक्स-वाई सीरीज का साल्व पेपर उनके द्वारा वायरल किया गया। खंड शिक्षा अधिकारी ने देखते ही उनके खिलाफ कार्रवाही की। पूछताछ में बताया गया कि उनको घोसी क्षेत्र के प्राइमरी स्कूल के शिक्षक ओंकार यादव ने भेजा जिसे भी गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों लोगों से पूछताछ चल रही है। सरायलखंशी थाने में उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हो गयी है। इसके अलावा गोपाल दूबे सरस्वती इंटर कालेज के प्रिंसपल द्वारा भी साल्व पेपर को वायरल किया गया। सभी के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज कर कार्रवाही की जा रही है। दो अभियुक्त गिरफ्तार है। तीसरे के गिरफ्तारी का प्रयास चल रहा है।

वित्तविहीन विद्यालयों पर रहेगी खास नजर

इसके अलावा उनसे कई तथ्यों को लेकर पुछताछ की जा रही है। प्रदेश सरकार को यह लिखा गया है कि इस पेपर को रद्द कर फिर से कराया जाये। कुल 69 वित्तविहीन विद्यालयों में भौतिक विज्ञान पेपर का एक्स-वाई सीरीज का साल्व पेपर था। आगामी दिनों में वित्तविहीन विद्यालयों में होने वाले सभी पेपरों की परीक्षाओं में पैनी नजर रखी जायेगा। इस मामलें में पुलिस विभाग की सर्विलांस, एसओजी सहित तमाम टीमों को लगाया गया है। यह पेपर कहां से आउट हुआ। जिलास्पर से या प्रदेश स्तर से आउट किया गया है। सभी बिन्दुओं पर जांच कर सभी दोषियों के खिलाफ कार्रवाही की जायेगी।

Related posts