पीबीडी में सिर्र्फ मॉरीशस से आयेंगे 700 से अधिक एनआरआई, शहर में क्लीन फूड स्ट्रीट की व्यवस्था होगी

वाराणसी। अगले साल जनवरी के तीसरे सप्ताह में होने वाला प्रवासी भारतीय दिवस (पीबीडी) पहली बार पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी में होने जा रहा है। केन्द्र और प्रदेश मंत्रिमंडल के दर्जनों लोग इसमें शिरकत करेंगे। दुनिया भर से आ रहे अतिथियों के समक्ष कार्यक्रम में किसी तरह की चूक न हो इस खातिर रोजाना समीक्षा हो रही है। मुख्यालय से अधिकारी आ रहे है और स्थानीय अफसर भी कम कस लिये हैं। इसी क्रम में रविवार को डीएम सुरेंद्र सिंह ने टीएफसी में अधिकारियों की बैठक कर पीबीडी की व्यवस्थाओं के प्रगति की समीक्षा की। डीएम ने बताया कि बाबतपुर से सारनाथ की सड़क को और सुदृढ़ किया जाएगा। शहर में उपयुक्त स्थान पर क्लीन फूड स्ट्रीट की व्यवस्था होगी। ताकि शहर, घाट आदि स्थलों पर भ्रमण के साथ-साथ एनआरआई मेहमान काशी, पूर्वांचल सहित विभिन्न प्रकार की भारतीय व्यंजनों का लुफ्त उठा सकें।

सुरक्षा के संग संरक्षा पर अधिक ध्यान

डीएम ने इलेक्ट्रिक सेफ्टी व अग्निशमन विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि टेंट सिटी, समस्त कार्यक्रम स्थलों, होटलों व अन्य ठहरने के स्थलों पर इलेक्ट्रिक सेफ्टी व फायर सेफ्टी की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित कर ले। पीबीडी में देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश के साथ-साथ केंद्र व प्रदेश के मंत्री गण सहित कला, संस्कृति क्षेत्र की नामचीन हस्तियां सहभागिता करेंगी। मेहमानों का स्वागत, सम्मान व उनसे संवाद करेंगे। काशी के 550 से अधिक लोगो के घर एनआरआई मेहमानों के ठहरने के लिए सूचीबद्ध हो चुके हैं। बैठक में एनआरआई के बाबतपुर हवाई से ठहरने के स्थान तक यातायात, कार्यक्रम स्थलों तक जाने, शहर के स्थलों को घूमने आदि की यातायात व्यवस्था, लंच व डिनर की व्यवस्था, कार्यक्रम स्थलों पर प्रवेश, वाहन पार्किंग, चिकित्सा सुविधाओं आदि पर बिंदुवार विस्तार से चर्चा हुई।

इनकी रही मौजूदगी

इस मौके पर एसएसपी आनंद कुलकर्णी, सीडीओ गौरांग राठी, एडीएम सिटी विनय कुमार सिंह, एसपी सिटी दिनेश सिंह सहित विभिन्न विभागों के लगभग 35 से 40 अधिकारीगण उपस्थित थे। डीएम ने अधिकारियों के साथ टीएफसी, टेंट सिटी, स्टेडियम का स्थलीय निरीक्षण भी किया।

Related posts