वाराणसी। देश की धार्मिक और सांस्कृतिक राजधानी कही जाने वाली काशी नगरी के सांसद खुद पीएम मोदी हैं। अगले साल लोकसभा चुनाव होने हैं और यहां के विकास कार्यो को लेकर पूरे देश में चर्चा होगी। इसे ध्यान में रखते हुए अधिकारी और राजनेता सक्रिय हो गये हैं। केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान गुरुवार को काशी पहुंचे और ऊर्जा गंगा योजना को लेकर दिन भर पेंच कसे। पंचतारा होटल में मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने स्वीकार किया कि वाराणसी में प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना की शुरूआत खुद पीएम मोदी ही जल्द करेंगे। यहीं नहीं आगामी तीन सालों में आधे यूपी को पाइप गैस कनेक्शन से कवर करेंगे जिसके लिए टेंडर प्रक्रिया आरम्भ हो गई है। योजना पूर्वी उत्तर भारत की अर्थ क्रांति में नई ऊर्जा लाएगी। प्रदेश में वाराणसी के अलावा लखनऊ, इलाहाबाद, बरेली, कानपुर, मेरठ, आगरा में गैस कनेक्शन चल रहे हैं।

चाय-पकौड़े के बाद रोजगार का साधन हथौड़ा!

ऊर्जा गंगा के आंकड़ों को गिनाते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि काशी में 37 किलोमीटर पाइप लाइन बिछ चुकी है जबकि 5500 घरों में कनेक्शन दिया जा चुका है। इसमें बीएचयू और डीरेका के साथ व्यवसायिक, रेस्टूरेंट, होटल, मेस से लेकर ढाबा तक सभी को जोड़ा गया है। शहर में दो सीएनजी स्टेशन तैयार हैं जबकि 10 और लगाने की तैयारी हो रही है। आने वाले साल भर में 50 हजार घरों तक पहुंचाएंगे। परियोजना को रोजगार से जोड़ते हुए मंत्री का कहना था कि अगले सप्ताह से आॅन स्पाट लोगों को प्रशिक्षिण होेगा। जो भी पाइप डालने से लेकर दूसरे अन्य कामों में लगे हैं उन्हें प्रशिक्षित करेंगे। यहां एक लाख घरों में पीएनजी जा सकती है जबकि डेढ़ लाख वाहन और इतने ही दो पहिया हैं। इसका प्रशिक्षण सेंटर खुलेगा जिसका लाभ यहां के युवाओं को रोजगार के रूप में मिलेगा। मांग के अनुरूप उपभोक्ताओं की संख्या बढ़ायी जायेगी।

admin

No Comments

Leave a Comment