मऊ। बलिया एक्सप्रेस परियोजना का काम शुरू नहीं हुआ है लेकिन इसके मुआवजे को लेकर जालसाजी का शिकायतें आने लगी है। गुरुवार को सीजेएम प्रमोद कुमार सिंह की अदालत ने सुनवाई के बाद अदालत में तहसीलदार मोहम्मदाबाद गोहना, कानूनगो व लेखपाल समेत 9 आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना करने का आदेश पुलिस को दिया है। शमशाबाद (रानीपुर) निवासी श्याम जन्म ने प्रार्थना पत्र देकर इन पर आरोप लगाये थे। उनका कहना था कि आराजी नंबर 825 क्षेत्रफल 169 ईयर के स्वामी बेचू से फरवरी 2010 में जरिए पंजीकृत बैनामा लिया था बनाने के बाद आवेदक का नाम राजस्व अभिलेखों में दर्ज हो गया आराजी संख्या 825 के क्षेत्रफल में श्याम जन्म इन अमल राज नारायण वह प्यारी देवी सह भूमिधर है।

राजस्वकर्मियों की मिलीभगत से खेल

आरोप है कि आवेदक की भूमिधरी आरोपित लेखपाल अशोक कुमार, कानूनगो रामलगन व तहसीलदार मोहम्मदाबाद गोहना सत्यनारायण चौहान की साजिश से बरौली से बलिया एक्सप्रेस परियोजना के पक्ष में अन्य प्रस्तावित अभियुक्तगण जय प्रकाश गुलाबी उमेश कुमार ओमप्रकाश राधा इंदल यह जानते हुए कि उक्त भूमि से उनका कोई वास्ता व सरोकार नहीं है दिनांक 24 मार्च 2017 को अवैध धनराशि प्राप्त करने के लिए आराजी के 113 एयर में से 90 हेक्टेयर भूमि बैनामा कर दिए। उक्त कृत्य प्रस्तावित अभियुक्तगण अशोक कुमार लेखपाल रामलगन कानूनगो वह सत्य नारायण चौहान तहसीलदार की साजिश का नतीजा है। आरोपों की गंभीरता कोदेखते हुए कोर्ट ने शमशाबाद (रानीपुर) निवासीगण जयप्रकाश, गुलाबी, उमेश कुमार, ओमप्रकाश, राधा यदुनाथ तथा अशोक कुमार लेखपाल तहसील मोहम्मदाबाद गोहना राम लगन कानूनगो तहसीलदार मोहम्मदाबाद गोहना व सत्य नारायण चौहान तहसीलदार मोहम्मदाबाद गोहना के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना का आदेश कोतवाली मोहम्मदाबाद गोहना को दिया है।

admin

No Comments

Leave a Comment