मऊ। कानून-व्यवस्था को लेकर सीएम योगी से लेकर आला अधिकारी तमाम दावे करते हैं लेकिन उसका हालत बदतर होती जा रही है। जेल में अपराधी समानांतर सरकार चला रहे हैं और उनके हौसले बुलंद है। दशा यह हो चुकी है कि अब वह जज से लेकर थाना प्रभारी तक को फोन कर धमकियां दे रहे हैं। यह बात दीगर है कि इसकी खातिर वह खुद को भाजपा के किसी बड़े नेता से लेकर प्रशासनिक अधिकारी बता रहे हैं। कोपागंज इंस्पेक्टर आरके द्विवेदी को पूर्व विधायक सीमा द्विवेदी के नाम पर जान से मारने की धमकी देने के मामले की जांच हुई तब इस गोरखधंधे का खुलासा हुआ। धमकी देने वाला चंदन कन्नौजिया उर्फ चांदनी बलिया जेल में निरुद्ध पाया गया। शातिर बदमाश के सहयोगी रमेश चौहान को पुलिस ने बुधवार की रात उसके घर भरथिया कादीपुर (बलिया) को गिरफ्तार कर पूछताछ तो चौंकाने वाली जानकारी सामने आयी। इस बदमाश ने सहसरा (बिहार) के जिला जज को भी मारने की धमकी दी थी। पुलिस ने मोबाइल व सिम बरामद किया है जिससे जेल में मुलाकात के दौरान धमकी दिलवाई थी। अब पूरे मामले में जेल की सुरक्षा को लेकर भी खलबली मच गई है। बलिया के जिला प्रशासन को भी अवगत करा दिया गया है।

चुनौती के रूप में लिया था मामला

गौरतलब है कि कोपागंज प्रभारी निरीक्षक आरके द्विवेदी को 20 व 21 मई को जौनपुर के मुंगराबादशाहपुर की पूर्व विधायक सीमा द्विवेदी के नाम पर व बिहार के सहसा जिला जज को तीन मोबाइल नंबरों से जान से मारने तथा पूरे परिवार को क्षति पहुंचाने की धमकी के दी गई थी। इसके बाद पुलिस महकमें में खलबली मच गई थी। कोपागंज के ही भरथिया कादीपुर में एक जमीन के विवाद को निपटाने के लिये इंस्पेक्टर को धमकी देते दी गई थी। ऐसा नहीं करने पर घर परिवार को भी देख लेने की चेतावनी दी गई थी। मामले में स्वयं इंस्पेक्टर ने अज्ञात मोबाईल नम्बरों से आये फोन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद पुलिस पूरे मामले की डिटेल को खंगालने में लग गई थी।

पहले भी देता रहा था धमकी

आरम्भिक जांच के दौरान बलिया जेल में निरुद्ध चल रहे मुख्य आरोपी चंदन कन्नौजिया उर्फ चांदनी निवासी गोठौली बांसडीह (बलिया) व उसके सहयोगी रमेश चौहान निवासी भरथिया कादीपुर का नाम प्रकाश में आया। इसके आाधार पर रमेश चौहान को बुधवार की रात 10 बजे उसके घर से गिरफ्तार कर लिया गया । रमेश ने स्वीकार किया कि बलिया जेल से धमकी दिलवाई थी। रमेश के पास से घटना में प्रयुक्त मोबाइल को बरामद किया गया है। इसे वह सिम व मोबाइल उपलब्ध कराता था। चंदन कन्नौजिया द्वारा पूर्व में भी अपने को जिला जज एवं विधायक तो कभी सचिवालय से सचिव आदि बनकर पुलिस व अन्य विभाग के अफसरों से फोन कर धमकी दे चुका था।

admin

No Comments

Leave a Comment