एक लीटर दूध को 80 बच्चों को पिलाया, शिक्षामित्र कार्यमुक्त

सोनभद्र।  एक लीटर दूध को  80 बच्चो में बांटा गया। यह सुन आपको थोड़ा अजीब लग रहा होगा लेकिन यह सच्चाई है और इसे सम्भव कर दिखाया है उत्तर प्रदेश का बेसिक शिक्षा विभाग ने । यह सब हुआ है सूबे के आखिरी और देश के 115 अति पिछड़े जिलो की सूची में शामिल सोनभद्र में। जिले के चोपन विकास खण्ड के कोटा ग्राम पंचायत के सलईबनवा प्राथमिक विद्यालय पर मिड डे मील में अनियमितता का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मच हुआ है। इस मामले में कार्रवाई करते हुए एबीएसए ने स्कूल के प्रभारी अध्यापक को सस्पेंड कर दिया वय है, जबकि शिक्षामित्र को कार्यमुक्त करते हुए उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। 
सोनभद्र जिले की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत में स्थित प्राथमिक विद्यालय सलईबनवा में ये चौंकाने वाला मामला सामने आया है। इस प्राथमिक विद्यालय  में कुल 171 छात्रों का नामांकन है। शासन के निर्देश पर प्रत्येक बुधवार को बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा बच्चों को मिड – डे- मील के अंर्तगत 150 – 150 मिलीग्राम दूध दिया जाने का नियम है। बुधवार को स्कूल में कुल 81 बच्चे उपस्थित थे। आरोप है कि स्कूल  के स्टाफ द्वारा एक लीटर दूध में पानी मिलाकर सभी बच्चों में बांटा दिया गया। विद्यालय स्टाफ के इस कारनामे का वीडियो वायरल हुआ तो अधिकारियों में हड़कम्प मच गया। 
क्या कहते हैं रसोइए ?
विद्यालय की रसोईया ने बताया कि ऐसा हर बार होता है लेकिन शिकायत पर कार्रवाई नही होती है। हमेशा दूध में पानी और चीनी मिलाकर बच्चो में बांटा जाता है। एक पैकेट दूध था जिसमे एक बाल्टी पानी मिलाकर 85 बच्चो को पिलाया था। जबकि शिक्षा मित्र ने बताया कि स्कूल में एक लीटर दूध पहले से था। और दूध लेने के लिए प्राभारी अध्यापक बाहर गए थे। बच्चों को ढाई बजे के बाद दूध दिया जाना था लेकिन दाई ने पहले ही दे दिया। 
क्या कहते हैं अधिकारी ?
इस पूरे मामले पर बेसिक शिक्षा विभाग के खंड शिक्षा अधिकारी मुकेश कुमार राय ने बताया कि सलईबनवा प्राथमिक विद्यालय पर कुक द्वारा एक लीटर दूध में 80बच्चो को दूध पिलाने की बात सामने आई थी। लेकिन जैसे ही दूध कम होने की सूचना मिली तो बच्चो को पुनः दूध मानक के अनुसार दिया गया।  वहीं दूसरी तरफ मौके पर जांच में पहुंचे बीएसए ने बताया कि प्रथम दृष्टया तो गलती शिक्षामित्र की लगती है और उसे कार्यमुक्त कर दिया गया है । हम पूरे तथ्यों की जांच कर आगे की कार्यवाही करेंगे ।

Related posts