बलिया। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के बंगला विवाद में प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक के आदेश से पार्टी के नेताओं की बौखलाहट सामने आने लगी है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रमाशंकर विद्यार्थी ने राज्यपाल द्वारा अखिलेश यादव के सरकारी बंगले में तोड़ फोड़ पर मुख्यमंत्री को पत्र लिखने के बारे में पूछे जो पर तल्ख टिप्पणी की है। रमाशंकर विद्यार्थी ने कहा कि चलिये कम से कम उनका जमीर तो जागा। भ्रष्टाचार महगांई और अपराध -बलात्कार पर चुप रहने वाले गवर्नर का एक झूठी घटना पर जमीर जागा तो इसकी हम निंदा करते हैं।

भाजपा का कर्ज उतार रहे राज्यपाल

राज्यपाल भारतीय जनता पार्टी का कर्ज उतार रहे है। यही नहीं राज्यपाल द्वेष भावना से कार्य कर रहे है। बंगला तो 2 तारीख को खाली किया गया और इतने दिनों बाद इस तरह की कार्यवाई की जा रही है जिसे भारतीय जनता पार्टी करा रही है। अखिलेश यादव के नेक चरित्र को बदनाम करने के लिए भारतीय जनता पार्टी करा रही है। राज्यपाल भारतीय जनता पार्टी को खुश करने के लिए इसमे कूदे है। यह संवैधानिक पद होता है और उस पर आसीन होने वाले को सभी पहलुओं को देखना चाहिये। खेद की बाात है कि ऐसा नहीं हो रहा है।

admin

No Comments

Leave a Comment