‘भूत’ को लेकर दो पक्ष एक-दूसरे पर लाठी-डंडे लेकर पड़े टूट, महिलाओं समेत कइयों के सिर गये फूट

वाराणसी। इंटरनेट युग 21 वीं सदी में भी ग्रामीण इलाकों में ‘भूत-प्रेत’ को लेकर कुछ ऐसा विश्वास है कि मरने मारने के लिए उतारू हो जाते हैं। ताजा मामला नेवादा गांव (जंसा) का है जहां भूत-प्रेत के चक्कर में मंगलवार को दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। इस दौरान महिलाओं समेत तीन लोग घायल हो गए। घायलों का इलाज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हाथी पर कराया गया। पीड़ित पक्ष ने थाने में तहरीर दी है। कार्यवाहक एसओ दुर्गेश यादव ने स्वीकार किया कि यह मामला अंधविश्वास का है। वादी हौसिला प्रसाद दीक्षित के तहरीर पर जटाशंकर दीक्षित, अजय,रितिक,गायत्री देवी के खिलाफ आईपीसी की धारा 323,504,506,392,452 के तहत मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्यवाही की जा रही है।

महुआ का पेड़ विवाद का सबब

नेवादा गांव में एक महुआ का पेड़ हैं जहां लोग भूत-प्रेत छूटने की बात कहते हैं और पूजा करने आते हैं। गांव के दो दीक्षित परिवार मंगलवार को एक-दूसरे पर भूत भेजने की बात कहते हुए भिड़ गए। कहासुनी के बाद मारपीट शुरू हो गई जिसमें दोनों तरफ से लाठी डंडे चलने लगे। लोगों के बीच बचाव करने के बाद मामला शांत हो सका। इस घटना में हौसिला प्रसाद दीक्षित (60) ,रेखा देवी (35) और विकास (20) घायल हो गए। उन्हें जंसा पुलिस ने मेडिकल मुआवना हेतु हाथी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भेजा। हौसिला प्रसाद दीक्षित व जटाशंकर दीक्षित के बीच भूत प्रेत को लेकर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हुए थे जिसमें मारपीट हुई। हौसिला दीक्षित के तरफ से लिखित तहरीर नामजद चार लोगों के खिलाफ जंसा थाने में देकर कार्यवाही की मांग की गयी।

Related posts