वाराणसी। कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा पर गुरुवार को अन्नकूट पर्व पर अन्नपूर्णा मंदिर में 90 कुंतल कच्चा पक्का से छप्पन भोग लगेगा। हर साल की तरह इस बार भी तरह-तरह की मिठाइयों से पूरे मंदिर परिसर को सजाया जायेगा। लाखो की संख्या में भक्त अन्नकूट पर्व पर स्वर्णमयी प्रतिमा के दर्शन करने के साथ प्रसाद ग्रहण करने की खातिर मंदिर पहुंचते हैं। ऐसी मान्यता है कि अन्नकूट प्रसाद ग्रहण करने मात्र से ही सब रोग दूर हो जाते है और जीवन मे सुख शांति मिलती है। अन्नपूर्णा मंदिर के अलावा परिसर में कैलाश भगवा मंदिर में 21 कुंतल, सामने स्थित बाबा विश्वनाथ मंदिर में 25 कुंतल के कच्चा पक्का अन्न से बाबा को भोग लगेगा। इसी तरह शनिदेव मंदिर में डेढ़ कुंतल व अक्षयवट हनुमान मंदिर में एक कुंतल का भोग लगेगा।

चार दिवसीय दर्शन का होगा समापन

अन्नपूर्णा मंदिर के महंत रामेश्वर पुरी के मुताबिक अन्नकूट महोत्सव पर अन्न और धन की अधिष्ठात्री देवी अन्नपूर्णा को 56 तरह के व्यंजनों का भोग लगता है जो बाद में प्रसाद के तौर पर भक्तों में वितरित कर दिया जाता है। इसी के साथ धनतेरस से आरम्भ हुए स्वर्णमयी प्रतिमा के दर्शन के चार दिवसीय कार्यक्रम का समापन होता है।

admin

No Comments

Leave a Comment