एक तरफ अजान की गूंज तो दूसरी तरफ बाबा का आशीर्वाद लेने वालों का हुजूम, ऐसा था काशी का नजारा

वाराणसी। धर्म और आध्यत्म की नगरी वाराणसी में सावन के आखिरी सोमवार को सांप्रदायिक सौहार्द का अद्भुद नजारा देखने को मिला। शहर में एक तरफ अजान की गूंज सुनाई दे रही थी तो दूसरी ओर बाबा भोले का आशीर्वाद लेने वालों का तांता लगा हुआ था। सड़कों पर सुकून भरी तस्वीरों के सामने आने के बाद उन पुलिस वालों ने भी तसल्ली ली, जिनके मन में आशंका भारी थी। 
पुलिस के लिए चैलेंज था एक था दो पर्व
सावन के आखिरी सोमवार के साथ ईद उल अजहा के त्योहार को सकुशल संम्पन्न करना पुलिसवालों के लिए बड़ा चैलेंज था। एक तरफ बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने वाले लाखों कांवड़ियों की भीड़ तो दूसरी ओर नमाजियों का हुजूम। दरअसल रविवार की रात से ही गोदौलिया, मैदागिन, दशाश्वमेध, बांसफाटक सहित शहर के दूसरे हिस्से में बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने के लिए लंबी लाइन लग गई। सबसे बड़ा चैलेंज काशी विश्वनाथ मंदिर को लेकर था जिसके परिसर से सटे ज्ञानवापी मस्जिद है। पुलिस को इस बात का डर था कि किसी तरह की कोई घटना ने हो जाये। हालांकि दोनों ही धर्मों के लोगों ने शांति और सौहार्द बनाया रखा। 
सुबह से ही सड़कों पर नजर आएं पुलिसवालेदोनों ही पर्व सकुशल सम्पन्न हो जाये। इसे लेकर सुबह से ही पुलिस के आलाधिकारी सड़कों पर नजर आए। आईजी विजय सिंह मीणा और कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने गोदौलिया से मैदागिन तक रुट मार्च किया। वही दूसरी ओर एसएसपी और एसपी सिटी शहर के दूसरे हिस्से में चक्रमण करते नजर आएं। 

Related posts