कुख्यात झुन्ना पंडित के ‘खानदान’ को नहीं मिली कोर्ट से राहत, माता-पिता संग भाइयों की भी जमानत अर्जी खारिज

वाराणसी। संगीन वारदातों को अंजाम देकर चर्चा में आये एक लाख के इनामी रह चुके श्रीप्रकाश मिश्र उर्फ झुन्ना पंडित के साथ पूरे परिवार को करारा झटका लगा है। स्पेशल जज (ईसी एक्ट) केपी सिंह की अदालत ने कैन्ट थाने के बहुचर्चित पूर्व प्रधान राजेश पटेल के अपहरण, रंगदारी और लूटपाट के मामले में शातिर बदमाश झुन्ना पंडित के माता-पिता ऊषा देवी व नंदलाल मिश्रा एवं दो भाइयों ओमप्रकाश उर्फ सोनू व जयप्रकाश की जमानत अर्जी खारिज कर दी हैै। इससे पहले पुलिस ने पर झु्न्ना पंडित पर शिकंजा कसने के क्रम में सभी को गिरफ्तार कर जेल में दाखिल कराया था।

अगवा कर की थी पिटाई

अभियोजन के मुताबिक 28 अगस्त 2019 की रात साढ़े 10 बजे झुन्ना पंडित समेत एक दर्जन बदमाशो ने स्कार्पियो से आकर मड़ाव गांव स्थित पूर्व प्रधान राजेश पटेल को उसकी ससुराल से जबरन उठाकर ले गए। इस दौरान उन लोगों ने राजेश को निवस्त्र कर बुरी तरह मारपीटा और सुनसान स्थल पर बेहोशी की हालत में फेंक दिया। घटनाक्रम का एक पहलू यह भी रहै कि बदमाशो ने राजेश की सोने की चेन और 10 हजार छीनने के साथ 50 लाख की रंगदारी न देने पर जान से मारने की धमकी दिया था। इस मामले में पुलिस ने कुख्यात झुन्ना पंडित समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

Related posts