लखनऊ। नूरपुर (बिजनौर) में हो रहे उपचुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो रही हैं। चुनाव की तारीख जैसे-जैसे करीब आ रही है वैसे-वैसे राजनीति घटनाक्रम भी तेजी से करवट ले रहा है। गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव में बीजेपी को करारी हार देने के बाद अब विपक्ष कैराना और नूरपुर उपचुनाव की तैयारी है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने चुनाव प्रचार नहीं करने का फैसला लिया है, लेकिन उनके विश्वस्त नेता अपनी पूरी ताकत झोंक दिये है। नूरपुर विधानसभा सीट पर होने वाले उप चुनाव के लिए महान दल ने सपा और आरएलडी के गठबंधन के प्रत्याशी का समर्थन किया है। महान दल ने यहां सपा प्रत्याशी को जिताने के लिए एक विशाल रैली का आयोजन किया। इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी, चुनाव प्रभारी व शाहगंज के विधायक शैलेंद्र यादव ललई तथा कई वरिष्ठ नेता अतिथि के रुप में उपस्थित रहे।

किसानों से झूठ बोलने का लगाया आरोप

सपा नेता ललई यादव ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन्होंने भोली-भाली जनता से झूठ बोलकर सत्ता हासिल की है। इस सरकार ने किसानों से कर्ज माफी और गन्ने भुगतान दिलाने के नाम पर उनसे वोट लिया और केंद्र और प्रदेश में अपनी सरकार बनाई। ललई यादव 28 मई को होने वाले नूरपुर उपचुनाव में गांव नंगला में एक जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे। यहां उन्होंने जनता से गठबंधन प्रत्यशी नईमूल हसन को वोट देने की अपील की। साथ ही उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में सरकार बनाने के बाद आज किसान ही नहीं बल्कि आम जनता भी परेशान है। बीजेपी की सरकार प्रदेश में साल भर से ज्यादा हो चुकी है, लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा एक भी नई योजना की शुरूआत नहीं की गई है। प्रदेश सरकार सपा सरकार के कामों को अपना बताकर अपनी सफलता कह रही है। जनता से श्मशान और कब्रिस्तान बोलकर सत्ता हासिल किया।

admin

No Comments

Leave a Comment