जौनपुर। मानदेय सहित दूसरी मांगों को लेकर मूल्यांकन बहिष्कार कर रहे माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षकों का आंदोलन जोर पकड़ता जा रहा है। आंदोलन के 11वें दिन मंगलवार को अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री को खून से पत्र लिखकर अपनी वेदना जाहिर करते हुए सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से पत्र भेजकर मानदेय व सेवा शर्ते शीघ्र लागू करने की मांग की।जनक कुमारी इण्टर कालेज स्थित मूल्यांकन केंद्र पर लगभग 10 बजे माध्यमिक वित्तविहीन प्रधानाचार्य महासभा के प्रांतीय प्रधान महासचिव अखिलेश सिंह के नेतृत्व में भारी संख्या में वित्तविहीन शिक्षक नारेबाजी करते हुए गेट के पास दरी विछाकर धरने पर बैठ गये। वित्तविहीन शिक्षकों ने पास के पैथोलजी केन्द्र से लैब सहायक को बुलाकर बारी-बारी से अपना खून निकलवाया। शीशी में एकत्रित शिक्षकों के खून से सादे कागज पर शिक्षक नेता अखिलेश सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व दूसरे पर शिक्षामंत्री डा. दिनेश शर्मा को सम्मानजनक मानदेय व वित्तविहीन शिक्षकों की सेवा नियमावली बनवाने की मांग किया।

कलेक्ट्रेट में सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन

खून से पत्र लिखने के बाद धरनारत वित्तविहीन शिक्षकों ने खून से ही हस्ताक्षर किया। शिक्षकों का समूह यहां से बाइक जुलूस निकालकर कलेक्ट्रेट पहुंचा। खून से लिखे पत्र को शिक्षकों ने सिटी मजिस्ट्रेट योगानंद पाण्डेय को सौंपा। सिटी मजिस्ट्रेट ने शिक्षकों को आश्वासन दिया कि उनका पत्र सीएम व शिक्षामंत्री के पास भेज दिया जाएगा। शिक्षकों ने निर्णय लिया कि जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं हो जाती तब तक धरना- प्रदर्शन जारी रहेगा। इस अवसर पर सुनील शुक्ला, श्यामधर मिश्र, विकास सिंह, लाल साहब यादव, मनोज पटेल, रविकांत दुबे, आनंद पांडेय, मनोज गुप्ता, देवेन्द्र यादव, बृजलाल यादव, राजेन्द्र प्रसाद, प्रकाश चन्द्र पटेल सहित भारी संख्या में प्रधानाचार्य व शिक्षक मौजूद रहे। संचालन जिला महामंत्री शरद कुमार सिंह ने किया।

समर्थन में आया शर्मा गुट, धरने में पहुंचे पूर्व विधायक

विभिन्न मांगों को लेकर मूल्यांकन बहिष्कार कर रहे वित्तविहीन शिक्षकों के धरने को शर्मा गुट का समर्थन मिला है। जनक कुमारी इंटर कालेज के मूल्यांकन केन्द्र पर धरने पर बैठे वित्तविहीन शिक्षकों से मिलने के लिए माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह के साथ पूर्व विधायक प्रमोद मिश्र भारी संख्या में शिक्षकों के साथ पहुंचे। वित्तविहीन शिक्षकों के दरी पर लगभग एक घंटे तक बैठे पूर्व शिक्षक विधायक ने कहा कि वित्तविहीन शिक्षकों की मांगें जायज है। उन्होंने कहा कि आप की समस्याओं को मुख्यमंत्री से बात कर हल कराने का प्रयास किया जाएगा। संघर्ष के इस लड़ाई में हम आप के साथ है।

admin

No Comments

Leave a Comment