वाराणसी। शहर की यातायात व्यवस्था को सुधारने के लिये सैकड़ों की संख्या में पुलिसकर्मी लगे हैं लेकिन उगाही को छोड़ दूसरी कोई उपलब्धि सड़क पर देखने को नहीं मिलती। आला अधिकारी खुद रोजाना जाम का सामना करते हैं जबकि एसपी ट्रैफिक के संग उनके अधीनस्थ उपलब्धियों का बयान करते हैं। पिछले दिनों फ्लाइओवर हादसे के बाद सर्वाधिक निशाने पर टैÑफिक महकमा था जिसने गुजारिश पर ट्रैफिक नहीं बंद किया था। जमीनी हकीकत जानने के बाद कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने शहर की यातायात व्यवस्था को दो दिन के अन्दर सुधारने पर विशेष जोर देते हुए इग्लिसिया लाइन, मैदागिन, गोदौलिया एवं लंका सहित अन्य प्रमुख चौराहा एवं तिराहो को चिन्हिंत कर वहां पर वाहनो के अवैध पार्किग एवं बेतरतीब तरीके से खड़ा होने वाले आटो रिक्सा, ई-रिक्सा सहित अन्य वाहनों को सूचारू रूप से पार्किग सुनिश्चित करायें जाने हेतु पुलिसिंग सिस्टम को सक्रिय एवं प्रभावी बनाये जाने का एसएसपी को निर्देश दिया।

कैसे चल रहे हैं दो गुने आटो रिक्शा

कमिश्नर ने बुधवार को अपने अनुश्रवण कक्ष में अधिकारियों के साथ बैठक कर शहर की जाम की समस्या से निजात दिलाये जाने हेतु गहन मंत्रणा किया। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि 5500 सिटी परमिट धारक के सापेक्ष शहर में लगभग 10 हजार आटो रिक्शा का संचालन हो रहा है। इसी प्रकार बिना कम्पनी निर्मित एवं आरटीओ से पंजीकृत ई-रिक्सा का भी अधिक संख्या में संचालन हो रहा है। इन्ही के कारण शहर में जाम की प्रमुख समस्या है। उन्होने सिटी परमिट वाले आटो रिक्सा के सामने शीशा पर परमिट की फोटो कापी चस्पा कराया जाना सुनिश्चित कराये जाने का निर्देश देते हुए कहा कि जिन आटो रिक्सा के शीशे पर परमिट न चस्पा हो, उन्हे अवैध मानते हुए सीज किया जाय। उन्होने मैदागिन-लहुराबीर, मैदागिन-चौक-छत्ताद्वार सहित अन्य प्रमुख सड़को पर लगने वाले अवैध दुकानों एवं दुकानदारो द्वारा अतिक्रमण कर सड़को पर अपना विस्तार कर लिये जाने को भी जाम का प्रमुख समस्या बताते हुए दुकानदारों को अपने निर्धारित सीमा के अन्दर ही रहने हेतु ताकिद किये जाने का निर्देश दिया। उन्होने शहर को जाम से निजात दिलाये जाने हेतु प्रमुख सड़को, चौराहो एवं तिराहों पर हुए अस्थायी अतिक्रमण को चिन्हिंत कर अभियान चलाकर दो-तीन दिन के अन्दर हटवाये जाने का भी निर्देश दिया। उन्होने श्री काशीविश्वनाथ मंदिर मार्ग पर लगने वाले जाम को समाप्त किये जाने हेतु चौक से गौदोलिया तक नो-पार्किग जोन घोषित कर किसी भी दशा में सड़क के किनारे वाहनों को खड़ा न होने देने का भी निर्देश दिया।

छत्ताद्वार पर नहीं खड़े होंगे आला अफसरों के वाहन

उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए उनकी स्वयं यानि कमिश्नर, डीएम सहित मंदिर जाने वाले वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के गाड़ी भी छत्ताद्वार के पास अब पार्क नही होगे। अधिकारी को छोड़ कर उनके वाहन किसी निर्धारित पार्किग स्थल पर जाकर पार्क किया जायेगा। एसपी ट्रैफिक द्वारा जाम की समस्या से शीघ्र निजात दिलाये जानें हेतु कतिपय प्रमुख मार्गो पर डिवाइडर बनवाये जाने की मॉग एवं इस पर लगभग 40 से 50 लाख की धनराशि व्यय होने की जानकारी पर कमिश्नर ने संबंधित मार्गो को चिन्हिंत करने का निर्देश देते हुए कहा कि वे संबंधित धनराशि एसपी ट्रैफिक को गुरूवार का चेक द्वारा मुहैया करा देगे। डिवाइडर स्वयं एसपी ट्रेंफिक बनवाये। लेकिन सड़क पर जाम अब नही दिखनी चाहिये। उन्होने श्री काशीविश्वनाथ मंदिर की गली एवं आसपास स्थित दुकानदारों द्वारा सड़क पर गंदगी किये जाने को संज्ञान लेते हुए दुकानदारों को डेंस्टवीन में ही गंदगी को एकत्र किये जाने हेतु निर्देशित किया।

admin

No Comments

Leave a Comment