बलिया। बैरिया के खंड विकास अधिकारी रणजीत कुमार ने तत्कालीन ग्राम प्रधान शांति देवी (वर्तमान में नगर पंचायत बैरिया की चेयरमैन) के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कराया है। आरोपितों में तत्कालीन पंचायत सचिव समेत ब्लाक के तीन कर्मचारी भी शामिल है। सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 409, 419, 420, 467, 468, 471 के तहत मुकदमा कायम कर पुलिस विवेचना कर रही है। खास यह कि प्रकरण दो साल पहले का है लेकिन अभ तक इसे दबा कर रखा गया था।

बैरिया विकास खंड के दुर्जनपुर ग्राम सभा के मनरेगा जाब कार्डधारक पशुपति गोड का निधन 2009 में ही हो चुका था। आरोप है कि वर्ष 2016-17 में ग्राम पंचायत बैरिया में उनके नाम पर मास्टर रोल जारी कर धन निकाला गया। इसकी शिकायत मिलने के बाद डीसी मनरेगा ने इसकी जांच की। जांच में तत्कालीन पंचायत सचिव बृज लाल वर्मा, प्रधान शांति देवी, कंप्यूटर आॅपरेटर प्रमोद कुमार बैरिया ब्लॉक के तत्कालीन लेखा सहायक विनोद वर्मा व सहायक लेखाकार वीरेंद्र राम की संलिप्तता सामने आयी। इन सबकी मिलीभगत 4 हजार 176 का दुरुपयोग करने के साथ ही अभिलेखों से छेड़छाड़ करने का आरोप लगा। जांच रिपोर्ट के आधार पर बीडीओ रणजीत कुमार ने इन पांचों के पर मुकदमा दर्ज कराया।

admin

No Comments

Leave a Comment