सोना तस्करी का नया रूट वाया म्यांमार, डीआरआई की छापेमारी में 44 सोने के बिस्कुट मिलने पर चौंकाने वाला खुलासा

वाराणसी। पिछले काफी समय से सोने की तस्करी कोलकाता से की जा रही थी लेकिन सरकारी एजेंसियों की छापेमारी को देखते हुए इसका दूसरा रूट बन गया है। राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) की वाराणसी यूनिट ने एक गुप्त खुफिया छापेमारी की तो चौंकाने वाले खुलासे हुए। दरअसल नार्थ इस्ट एक्सप्रेस की एसी कोच में छापेमारी के दौरान सोने के 44 बिस्कुट मिले जिसका बजन साढ़े सात किलो था। बरमाद सोने की कीमत 2.84 करोड़ आंकी गयी है। दो तस्करों को गिरफ्तार करते हुए उनके पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर बड़ी छापेमारी की कार्रवाई के लिए रणनीति बन रही है।

जींस में छिपा रखा था सोना

डीआरआई को सूचना मिली थी कि म्यांमार से बड़ी मात्रा में सोने की छड़ें गुवाहाटी (असम) से कानपुर तक पहुंचाई जा रही हैं। इस सूचना पर बी -1 (एसी) से दो व्यक्तियों द्वारा डी-बोर्ड किया गया है। पीडीडीयू रेलवे स्टेशन (चंदौली) पर इंटरसेप्ट किए गए यात्री मणिपुर के निवासी थे। उनकी तलाशी ली गयी तो 44 सोने के बिस्कुट बरामद हुए। इनका वजन 7.3 किलोग्राम (लगभग) है और कीमत 2.84 करोड़ (लगभग) आंकी गयी है। खास यह कि पूरा सोना उनके द्वारा पहने जा रहे जींस पैंट में छुपा हुआ था। सोने के बिस्कुटों की तस्करी म्यांमार के रास्ते गुवाहाटी की जाती थी जहां से इसे भेजा जा रहा था। बरामद सोना जब्त कर लिया गया और दोनों व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें अदालत में पेश किया गया और जेल में पेश किया गया। अन्य साथियों को गिरफ्तार करने के लिए आगे की पूछताछ की जा रही है।

Related posts