वाराणसी। नौकरी दिलाने का झांसा देकर नेपाली युवतियों से रुपये ऐठने फिर उनको बंधक बनाकर उनसे अनैतिक देह व्यापार कराने के मामले में पकड़े गए आरोपितों को शिवपुर पुलिस ने गुरुवार को एसीजेएम (षष्ठम) धीरेंद्र सिंह की अदालत में पेश किया। पुलिस ने इस मामले में पालम, नई दिल्ली निवासी पवन खुराना, जलपाईगुड़ी निवासिनी सुंदरी उर्फ वितिका थापा, मेहरौली नई दिल्ली निवासीद्वय शवीन शाह तथा राजेंद्र यादव को नई दिल्ली से गिरफ्तार किया था। चारों आरोपितों को दिल्ली से लाकर पुलिस ने स्थानीय अदालत में पेश किया। सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 366,370,342,406,506 व धारा 3/5/6 अनैतिक देह व्यापार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज है। आरोपितों को पेश करते हुए पुलिस ने उक्त आपराधिक धाराओं में न्यायिक रिमांड मंजूर करने की अदालत से अपील की। अदालत ने पत्रावलियों का अवलोकन के पश्चात चारों आरोपितों का न्यायिक रिमांड मंजूर करते हुए सभी को जेल भेज दिया।

जिला पुलिस का काम, कइयों ने कमाया ‘नाम’

गौरतलब है कि शिवपुर इलाके में नेपाली युवतियों को बंधक बना कर रखने के बाद उनसे देह व्यापार ही नहीं बल्कि खाड़ी के देशों में सप्लाई किये जाने की शिकायत पर नेपाल पुलिस ने स्थानीय अधिकारियों से मदद मागी थी। चांदमारी इलाके में छापेमारी कर एक को गिरफ्तार करने के बाद मामले के अहम मिले थे। इस पर टीम दिल्ली गयी थी। वहां पर दिल्ली पुलिस के संग छापेमारी कर युवतियों को मुक्त कराने के संग गिरफ्तारी की गयी। बावजूद इसके कई दिनों से दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल आधी रात को अपने नेतृत्व में छापेमारी से लेकर मुक्त कराने का क्रेडिल लेते टीवी चैनलों पर देखी गयी।

admin

No Comments

Leave a Comment