न काम आयी डा. महेन्द्रनाथ पाण्डेय की ‘पुचकार’ न ही साधना सिंह की ‘मुनहार’, महिलाओं के बागवती तेवर शुभ संकेत नहीं!

चंदौली। लंबे समय तक चंदौली में मेडिकल कालेज को लेकर भाजपा-सपा में खींचतान ही नहीं चली बल्कि आरोप-प्रत्यारोप भी हुए। सच यह भी है कि जनपद में स्वास्थ्य सेवाएं बेहाल हैं और सीधे वाराणसी भागने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं रहता। ऐसे में यहां 10 करोड़ की लागत से बनने वाला ट्रामा सेंटर बहुत बड़ी सौगात था। बावजूद इसके ट्रामा सेंटर के शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान उस समय अफरा-तफरी मच गयी जब केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के भाषण के दौरान महिलाएं पंडाल छोड़ कर चल दी। मंच मौजूद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और क्षेत्रीय सांसद डा. महेन्द्रनाथ पाण्डेय ने भी महिलाओं को रोकने की अपील की। यही नहीं मुगलसराय की विधायक साधना सिंह मान-मनौव्वल में जुट गयी लेकिन सफलता नहीं मिली। कुछ माह बाद लोकसभा चुनाव होने हैं और यह लक्षण पार्टी के लिए शुभ संकेत नहीं हैं।

केन्द्रीय मंत्री ने दिया ऐसे क्रेडिट

इससे पहले चन्दौली के महेवा गांव में था ट्रामा सेंटर के शिलान्यास कार्यक्रम में केन्द्रीय स्वास्थ मंत्री जेपी नड्डा ने इसका श्रेय पूरी तरह से स्थानीय सांसद को दिया। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि आज जनपद में अगर ट्रामा सेंटर आया तो डा. महेंद्रनाथ पांडेय की देन हैं। वाराणसी, मीरजापुर सहित गाजीपुर में मेडिकल कॉलेज खुला लेकिन यहां का ट्रामा सेंटर हाई लेबल का बनाया जा रहा है।

Related posts