वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के समूल विनाश के लिए ‘नवचंडी कार्यक्रम’, मुख्य अतिथि डीएम ने गिनाये इससे गुण

वाराणसी। कोरोना वैश्विक महामारी के वायरस को समूल नष्ट करने की खातिर मंगलवार को डॉक्टर संपूणार्नंद संस्कृत विश्वविद्यालय के वेद विभाग द्वारा विश्वविद्यालय परिसर सभागार में ही नवचंडी कार्यक्रम का आयोजन संपन्न हुआ। कार्यक्रम में डीएम कौशल राज शर्मा भी मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे। डीएम ने माना वेद विभाग द्वारा किया गया नवचंडी का कार्यक्रम कोई साधारण कार्यक्रम नहीं है। जो कोरोना की महामारी है, जिससे पूरा देश लड़ रहा है। कोरोना वायरस की वजह से पूरा मानवता प्रभावित हुई। उसे दूर करने के लिए और बाधाओं को दूर करने के साथ ही जल्द से जल्द इस बाधा को दूर करते हुए मानव जाति के कल्याण में लगाने हेतु यह आयोजन हो रहा है। इस अद्भुत निर्णय के लिए उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन को धन्यवाद एवं बधाई भी दी।

वेदों में जो लिखा उसके अनुरीप कार्यक्रम

डीएम ने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि ऐसी बाधाओं को विभिन्न प्रकार से दूर किए जाने का प्रयास हो रहा है। जो वेदों में लिखा है उसके अनुरूप इस बाधा को दूर करने का भी प्रयास किया जा रहा है जो अनुकरणीय है। जिस प्रकार से वैज्ञानिक शोध कर रहे हैं उसी प्रकार से यह भी प्रमाणित वैज्ञानिक साक्ष्यों के आधार पर जो पहले आ रहा है, उसी क्रम में विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा यह कार्यक्रम कराया जा रहा है। निश्चित रूप से बाकी जगत के लोगों को भी इसकी जानकारी होगी कि प्राचीन विद्याओं में पहले से ही वर्णित है कि कैसे इन बाधाओं को दूर किया जाए और कैसे वैज्ञानिक माध्यम व सुविधाओं के आहुतियो के माध्यम से किस प्रकार से पॉजिटिव एनर्जी, पॉजिटिव वाइब्रेशन व पॉजिटिव कण विकसित किया जाए। जिससे कोरोना वायरस का नाश हो। इससे वाराणसी की जनता को लाभ तो होगा ही पूरे भारत व विश्व का इससे कल्याण होगा। इस अवसर पर डीएम ने परिसर प्रांगण में ही पौधारोपण भी किया।

Related posts