मीरजापुर। अकोड़ी गांव (विंध्याचल) स्थित कठौहापुर दलित बस्ती में रविवार की देर रात नातिन की विदाई को लेकर रार में उसके पति और अन्य ससुराल पक्ष के लोगों ने नाना दीनानाथ (65) की जान ले ली। अचानक हुई वारदात के बाद आरोपित मौके से फरार हो गये। इस मामले में तहरीर के आधार पर ससुराल वालों के विरुद्ध गैर इरादतन हत्या का मामला पुलिस ने दर्ज कर लिया है। पोस्टमार्टम हाउस पर मृतक के पुत्र आत्मा प्रसाद का आरोप रहा कि षड़यंत्र के तहत वारदात को अंजाम दिया गया है। दूसरी तरफ थाना प्रभारी इंस्पेक्टर एके सिंह के अनुसार वृद्ध को धक्का दिया गया था जिससे वह घायल हो गया था। अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई।

तिलक के पहले वारदात से कोहराम

मृतक के पौत्र का तिलक 28 फरवरी को होना है लेकिन इस अप्रत्याशित घटना से उसके घर में कोहराम मचा है। मृतक के पुत्र आत्मा प्रसाद के अनुसार उसके पुत्र स्वामी नंद का तिलक 28 फरवरी को तय था। इसमे शामिल होने को सभी रिश्तेदार जुट रहे थें। उसकी बहन की पुत्री रेनू भी दो दिनों पूर्व अपने ससुराल लचियापुर-जिगना से आई हुई थी। रविवार की रात उसका पति रामदास भी यहां साइकिल से आ पहुंचा। उसके बाद उसका भाई शिवदास और पिता शिवचरण भी मोटर साइकिल से आ गये। तमाम रिश्तेदार के बीच ही रामदास अपनी पत्नी रेनू की विदाई के लिये अड़ गया। विवाद के दौरान कुछ ऐसा हुए कि पिता की जान चली गयी जिसके बाद सभी फरार हो गये।

admin

No Comments

Leave a Comment