चंदौली। डैना पोखरे (धीना) के पास लेखपाल अजय प्रताप की हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि उनका मुंशी बबलू राय उर्फ सन्तोष राय था। पुलिस की पकड़ में आने के बाद बबलू ने कबूल किया कि लेखपाल के ‘चाल-चलन’ को लेकर वह नाराज था। योजनाबद्ध तरीके से उसने पहले लेखपाल को जमकर शराब पिलायी और उसमें ‘कुछ’ मिला दिया। बाद में तालाब में फेंक कर वहां से चलता बना। बावजूद इसके उसकी कहानी तथ्यों से मेल नहीं खा रही है। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए वीडियोग्राफी के बीच डाक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया था। पानी में शव मिलने के बावजूद फेफड़ों में ऐसा कुछ नहीं था। शरीर पर बाहरी या भीतरी चोट के निशान भी नहीं थे। एसपी चंदौली संतोष सिंह ने गिरफ्तार बबलू राय को मीडिया के सामने पेश करते हुए बताया कि विसरा परीक्षण के लिए भेजा जा रहा है। इसकी रिपोर्ट आने के बाद मौत की गुत्थी सुलझेगी।

पहले पिलाई शराब, फिर छोड़ दिया साथ

बबलू राय लंबे समय से अजय प्रताप के साथ काम करता था। चर्चाओं के मुताबिक पत्नी के साथ संबंध को लेकर उसकी नाराजगी थी। इसका दूसपा पहलू यह भी है कि बबलू के भी एक महिला से अवैध संबंध थे। योजना के तहत नववर्ष की पूर्व संध्या पर लेखपाल को जमकर शराब पिलाने के बाद बबलू डैना गांव के लिए चला लेकिन पोखरे के पास बाइक खड़ी कर दी। प्रेमिका से मिलने का बहाना बना कर वह हट गया। लौटने तक लेखपाल की मौत हो चुकी थी जिस पर उसने शव पोखरे में फेंक दिया। सुबह उसने प्रेमिका को फोन कर पूछा कि पोखरे के पास कुछ हुआ है क्या। प्रेमिका ने लाश मिलने की पुष्टि की। कॉल के आधार पर पुुलिस ने तलाश शुरू की थी।

admin

No Comments

Leave a Comment