वाराणसी। लंबे समय से पूर्वांचल में खौफ का पर्याय रहे मुन्ना बजरंगी को पिछले कुछ समय से चुनौती मिलने लगी है। पिछले दिनों दाहिना हाथ माने जाने वाले मोहम्मद तारिक को बाइक सवार बदमाशों ने लखनऊ में गोली से छलनी कर दिया था। इस मामले में अब तक किसी की गिरफ्तारी तो दूर यह भी स्पष्ट नहीं हो सका कि वारदात के पीछे कौन था। पहले कथित पत्नी ताहिरा ने चार लोगों के खिलाफ एफआईआर करायी और दो दिन बाद यू टर्न लेते हुए नामजदगी से इनकार करते हुए अज्ञात पर जोर देने लगी। ताजा मामला एक दूसरे ‘करीबी’ का है जिसे पश्चिम उत्तर प्रदेश की जेल में निरुद्ध शहर के चर्चित अपराधी ने फोन कर धमकी दी है। सूत्रों के मुताबिक ‘पीड़ित’ ने शिकायत पुलिस से करते हुए सुरक्षा की गुहार लगायी गयी है। बहरहाल पुलिस गोपनीय ढंग से मामले की जांच कर रही है।

कभी रहे करीबी अब बन रहे हैं चुनौती

बताया जाता है कि लंबे समय तक बजरंगी की छत्रछाया में रहने वाले ही उससे अलग होकर अपना स्वतंत्र वजूद बना रहे हैं। सीधे तौर पर तो नहीं लेकिन ठेके-पट्टे से लेकर दूसरे मामलों में अब यह दखल देने लगे हैं। गाजीपुर,नैनी से लेकर पश्चिम उत्तर प्रदेश की जेलों में निरुद्ध कई ऐसे चर्चित अपराधी हैं जिनके बारे में पुलिस का भी मानना है कि अब वह बजरंगी के लिए नहीं बल्कि अलग तौर पर गिरोह खड़ा कर चुके हैं।

तारिक की हत्या के बाद से बढ़ायी थी सुरक्षा

पुलिस सूत्रों की माने तो जिस व्यक्ति को धमकी मिली है उसने तारिक की हत्या के बाद से ही सुरक्षा बढ़ा दी थी। लक्जरी वाहनों के काफिले में एक दर्जन निजी सुरक्षाकर्मी साथ चलते हैं। मूवमेंट भी कम हो गया है लेकिन कचहरी के आसपास अक्सर काफिला दिखता है। दूसरी तरफ कुछ लोगों ने इसे पुलिस की सुरक्षा पाने का प्रयास करार दिया है। मामला सुरक्षा से जुड़ा होने के नाते पुलिस इस पर किसी तरह की टिप्पणी नहीं कर रही है।

admin

No Comments

Leave a Comment