मऊ। लोकसभा चुनाव में एक साल से कम का समय शेष है। इस बार पिछले चुनाव सरीखी स्थिति नहीं है बल्कि मुकाबला महा गठबंधन से होने के आसार है। बावजूद इसके भाजपा के सांसद अपनी ही प्रदेश सरकार के मंत्रियों को कटखरे में खड़ा कर रहे हैं। ताजा मामला घोसी के सांसद हरनारायण राजभर का है जो प्रदेश के बेसिक शिक्षा और बाल पुष्टाहार मंत्री पर भ्रष्टाचार समेत दूसरे गंभीर आरोप लगा रहे हैं। सांसद ने मंत्री पर कुछ करीबी लोगों को उपकृत करने से लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां उड़ाने की बात कही है। सोशल मीडिया पर सांसद का पत्र वायरल हो रहा है और विभागीय अधिकारी इस पर कुछ बोलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं।

महीनों से नहीं हुआ है वितरण

सीएम को लिखे खत में सांसद का कहना है कि मऊ जनपद में पिछले 10 माह से पुष्टाहार का वितरण ही नहीं किया गया है। सुप्रीम कोर्ट का स्पष्ट आदेश है कि एक दिन भी सप्लाई बाधित नहीं होनी चाहिये। ऐसा मंत्री और विभागीय अधिकारियों के चलते हो रहा है जिन्होंने टेंंडर भी अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए किये। इसी तरह की कुछ कहानी मोजे-स्वेटरों के टेंडर में भी की गयी थी। जिन लोगों को इसमें लाभान्वित किया गया उन्हें मंत्री का करीबी बताया जा रहा है। चूंकि यह योजना आम और गरीब लोगों के लाभ लिए सरकार द्वारा चलायी जा रही है जिसकी छवि धूमिल करने के लिए ऐसा षणयंत्र रचा गया। सीएम से दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गयी हैै।

admin

No Comments

Leave a Comment