लखनऊ। केन्द्र के साथ प्रदेश में भी भाजपा की सरकार है। बावजूद इसके मोहम्मदाबाद के विधायक कृष्णानंद राय समेत सात लोगों की हत्या का मामला सवा दशक बीत जाने पर भी लंबित है। वजह, आरोपित तारिख पर आ नहीं रहे हैं जिससे सुनवाई नहीं हो पा रही है। मोहम्मदाबाद की मौजूदा विधायक अलका राय ने एक बार फिर से हत्याकांड के आरोपित बाहुबली मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी को तिहाड़ जेल शिफ्ट करने की मांग की है। उनका कहना है कि पहले बी वह सीएम योगी से इसकी गुहार लगा चुकी है। अब सीबीआई कोर्ट में प्रार्थानापत्र देने के साथ शासन से अनुरोध किया जायेगा कि आरोपितों को प्रदेश से बाहर तिहाड़ भेजा जाये। विधायक का आरोप है कि मुकदमा जब दिल्ली की स्पेशल कोर्ट में चल रहा है तो आरोपित यहां क्यों रख गये हैं। आरोपित बजरंगी का जेल डाक्टर मेडिकल बीमारी का बनाता है जबकि डाक्टरों के पैनल ने जांच की तो वह पूरी तरह से स्वस्थ निकला। साफ है कि मामले को लटकाने के लिए ऐसे पैतरें अपनाये जा रहे हैं।

पूर्व सांसद समेत दूसरे आरोपित पहुंचे थे कोर्ट

गौरतलब है कि कृष्णनंद राय की हत्या के बाद न्याय की लड़ाई लड़ रही अलका राय ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था जहां से मामले की विवेचना ही सीबीआई को नहीं सौपी गयी बल्कि सुनवाई भी प्रदेश के बाहर की जा रही है। शुक्रवार को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में पूर्व सांसद आफजाल अंसारी, मंसूर, रामू मल्लाह, राकेश पाण्डेय, संजीव महेश्वरी उर्फ जीव तो पहुंचे लेकिन बाहुबली मुख्तार और मुख्य आरोपित मुन्ना बजरंगी नहीं आये।

पिछली तारिख पर खड़ा हुआ था विवाद

इस मामले की पिछली तारिख पर मुन्ना बजरंगी को झांसी जेल से ले जाने को लेकर खासा विवाद हो गया था। जेल के डाक्टर ने मेडिकल बना दिया लेकिन प्रशासन ने पैनल से जांच करायी तो वह स्वस्थ निकला। इसके बाद बजरंगी की तरफ से वकीलों ने पुलिस मुठभेड़ में मारने की आशंका जताते हुए वाराणसी की कोर्ट में प्रार्थना पत्र दे दिया था।

admin

No Comments

Leave a Comment