वाराणसी। बांदा जेल में मुख्तार अंसारी और उनकी पत्नी के हार्ट अटैक को लेकर जहां एक तरफ उनके समर्थक जहर देने की आशंका जता रहे हैं तो दूसरी तरफ प्रतिद्वंदी मोहम्मदाबाद की विधायक अलका राय ने पलटवार किया है। उनका आरोप है कि समूचा घटनाक्रम योजना के तहत पूर्वनिर्धारित है। दरअसल मुख्तार हर हाल में लखनऊ में रहना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने खासे प्रयास भी किये थे लेकिन सफलता नहीं मिली तो नया पैंतरा अपनाया है। अलका राय ने सीएम योगी से समूचे घटनाक्रम के साथ मुख्तार की जांच मेडिकल बोर्ड से कराने का अनुरोध किया है।

बांदा जेल से प्रभावित हो रहा था ‘कारोबार’

गौरतलब है कि अलका राय के पति स्व. कृष्णानंद राय समेत सात लोगों की हत्या की साजिश रचने के मामले में मुख्तार पिछले सवा दशक से जेल की सलाखों के पीछे हैं। अलका राय का कहना है कि बांदा जेल में रहते हुए मुख्तार का आर्थिक और आपराधिक साम्राज्य चरमराने लगा था। पिछले दिनों लखनऊ में करीबी की हत्या के बाद से खासे परेशान थे। यही कारण है कि वह किसी भी सूरत में लखनऊ आना चाहते थे जिससे सब कुछ मैनेज हो सके।

अगले सप्ताह होनी है सुनवाई

बताया जाता है कि कृष्णानंद राय हत्याकांड भी अहम मोड पर पहुंच चुका है। अभियोजन की तरफ से साक्ष्य पूरे हो चुके हैं। अगले सप्ताह इस मामले में सुनवाई होनी थी। पति की मौत के बाद सुप्रीम कोर्ट तक कानूनी लड़ाई लड़ रही अलका राय ने इसे लेकर खुल कर टिप्पणी नहीं की लेकिन स्वीकार किया कि मुकदमा निर्णाय स्थिति में है।

admin

No Comments

Leave a Comment