सड़क किनारे इनोवा खड़ीकर प्रवासी कर रहे थे आराम कि डंफर ने छीन ली जान, दर्दनाक हादसे से मचा कोहराम

मीरजापुर। कोरोना वायरस से सर्वाधिक संक्रमित कोई प्रदेश है तो वह महाराष्ट्र है। यहां भी मुंबई में कोरोना कहर बरपा रहा है जहां सर्वाधिक उत्तर भारतीय और विशेष तौर पर पूर्वांचल के लोग रहते हैं। सभी अपने मूल स्थान स्थान लौटने की जद्दोजहद में जुटे हैं लेकिन रास्ते में मौत कैसे आ रही है इसका मंजर बसही गांव (लालगंंज) में देखने को मिला। यहां पर मुंहई से गोपालगंज की यात्रा पर जा रहे इनोवा सवार सात लोग नींद के चलते सड़क से हट कर अपनी गाड़ी खड़ा कर सोये थे। सड़क के किनारे खाली सड़क से लगभग 40 फीट दूर नींद आने के कारण सातों लोग आराम कर रहे थे। इनोवा बगल में खड़ी थी कि लालगंज की तरफ से डीबीएल का डंपर के चालक को झपकी आ जाने के कारण डंपर सड़क के नीचे उतर। सो रहे यात्रियों को डंफर ने कुचल दिये जिसमें तीन की मौके पर मौत हो गयी।

बच गये इनोवा सवार, जमीन पर सोने वाले काल के गॉल

मुंबई से किराये पर इनोवा लेकर गोपालगंज जा रहे लोगों ने लालगंज में मठ के पास अपनी गाड़ी खड़ी की थी। तीन लोग चादर बिछा कर जमीन पर सोये थे जबकि चार इनोवा में ही लेटे थे। हादसे में हमेशा सवार मरते हैं लेकिन यहां जमीन पर सोने वालों को डंफर कुचलते हुए निकल गया जबकि सवार बच गये। मृतक राजू सिंह (26) निवासी खोमारीपुर-फैजुल्लापुर गोपालगंज (बिहार) , वहीं के सौरभ कुमार (23) तथा अमित सिंह (26) बैकुंठपुर गोपालगंज (बिहार) के शव पोस्टमार्टम के लिए भेजने के संग विधिक कार्यवाही की जा रही है। शेष सहयात्री मुन्ना सिंह निवासी गोपालगंज बिहार व रोहित विशाल एवं विक्रम निवासी गणराज पाकर वैशाली बिहार सकुशल ठीक हैं। सहयात्री वादी मुन्ना सिंह निवासी फैजुल्लापुर गोपालगंज बिहार की तहरीर पर रपट दर्ज कर उक्त डंपर को कब्जे में तथा चालक रामबरन उम्र करीब 46 वर्ष निवासी जलालपुर औरंगाबाद बिहार को हिरासत में लिया गया है । मृतकों एवं शेष लोगों को उनके लगेज सहित परिजनों के पास गोपालगंज बिहार भेजने की कार्रवाई की जा रही है। कानून व्यवस्था की कोई समस्या नहीं है पुलिस अधीक्षक द्वारा घटनास्थल का निरीक्षण किया गया है।

Related posts