बलिया। ‘जब तक सूरज चांद रहेगा-मंटू तेरा नाम रहेगा’, ‘पाकिस्तान मुदार्बाद’, ‘भारत माता की जय।’ इत्यादि नारों के बीच शहीद जवान बृजेन्द्र बहादुर सिंह का पार्थिव शनिवार को पंचतत्व में विलीन हो गया। इससे पहले सेना और सिविल फोर्स की मौजूदगी में सलामी के बाद शहीद जवान का 6 वर्षीय बेटा ने मुखाग्नि दी। अबोध बच्चे के हाथों मुखाग्नि देते देख वहां मौजूद हर शख्स की आंखें बरसने लगी। बच्चे हो या बूढ़े सभी की आंखों में आंसूओं का सैलाब था। इस मौके पर पहुंचे जिले के प्रभारी मंत्री श्रीकांत शर्मा ने घोषणा की शहीद बृजेन्द्र की याद में स्मारक बनेगा। योगी सरकार ने परिजनों को 25 लाख की आर्थिक मदद भी देगी। शहीद के नाम पर गांव का मुख्य द्वार बनाने जबकि एक खेल मैदान का नाम शहीद ब्रजेन्द्र की याद में रखा जायेगा।

400
नम आखों से अंतिम विदाई को जुटे हजारों लोग
जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर शुक्रवार को बलिया के विद्याभवन नारायणपुर निवासी बीएसएफ के जवान बृजेन्द्र बहादुर गुरुवार की रात पाक सैनिकों से लड़ते हुए शहीद हो गये थे। शनिवार को तड़के जवान का पार्थिव पैतृक गांव पहुंचा। अपने लाल की आखिरी झलक पाने व सलाम करने को हर कोई बेताब था। बृजेन्द्र के पिता अशोक सिंह, माता राजकुमारी व पत्नी सुष्मिता सिंह का रो-रोकर बुरा हाल था। जवान की अंतिम यात्रा में यूपी के कैबिनेट मंत्री श्रीकांत शर्मा व ओमप्रकाश राजभर, नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी के अलावा सांसद-विधायक के साथ हजारों लोग शामिल हुए।

admin

No Comments

Leave a Comment